Monday, September 26, 2022

‘ब्रह्मास्त्र’ है ब्रह्मोस: गलती से मिस्टेक हो गई और तब से खौफ में है पाकिस्तान

नई दिल्‍ली/इस्‍लामाबाद: पाकिस्‍तान में पिछले दो दिन से खौफ की वजह बनी मिसाइल का भेद खुल गया है। भारत ने शुक्रवार को कहा कि गलती से मिसाइल फायर हो गई थी। एक बयान में रक्षा मंत्रालय ने कहा, ‘यह पता चला है कि मिसाइल पाकिस्‍तान के एक इलाके में गिरी। घटना पर बेहद खेद है मगर यह काफी राहत की बात है कि हादसे में किसी की जान नहीं गई।’ पाकिस्‍तान का दावा है कि मिसाइल करीब 40,000 फीट की ऊंचाई पर आवाज से तीन गुना ज्‍यादा रफ्तार से उड़ते हुए उनके एयरस्‍पेस में 100 किलोमीटर से ज्‍यादा भीतर तक घुस आई। गनीमत रही कि मिसाइल पर कोई वॉरहेड नहीं लगा था। घटना बेहद गंभीर है इसलिए एक हाई लेवल कोर्ट ऑफ इंक्‍वायरी के आदेश दे दिए गए हैं। न्‍यूक्लियर पावर वाले दो पड़ोसी देशों के बीच ऐसी कोई घटना युद्ध की वजह बन सकती थी।

कौन सी मिसाइल गलती से छोड़ी गई, इसका खुलासा रक्षा मंत्रालय ने नहीं किया। हालांकि सूत्रों ने कहा कि यह BrahMos लैंड-अटैक सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल थी जो परंपरागत (गैर-परमाणु) हथियार है। यह मिसाइल Mach 2.8 यानी आवाज से करीब तीन गुना रफ्तार से फायर होती है। सूत्रों के मुताबिक, मिसाइल उत्‍तरी भारत में वायुसेना के एक बेस से लॉन्‍च की गई। कोर्ट ऑफ इंक्‍वायरी मे इस बात की जांच होगी कि इतने सारे सेफगार्ड्स के बावजूद गलती से मिसाइल फायर कैसे हो सकती है।

9 मार्च 2022 को, रूटीन मेंटेनेंस के दौरान एक तकनीकी खराबी के चलते दुर्घटनावश एक मिसाइल फायर हो गई। भारत सरकार इसे लेकर गंभीर है और उच्‍चस्‍तरीय कोर्ट ऑफ इंक्वायरी के आदेश दे दिए गए हैं।

रक्षा मंत्रालय, भारत

Missle1

सहमा-सहमा है पाकिस्‍तान

खौफ में पाकिस्तान…
पाकिस्‍तान ने शुक्रवार को इस्‍लामाबाद में भारतीय दूत को तलब कर कड़ा विरोध जताया। पाकितान के अनुसार, उसके एयरस्‍पेस के ‘उल्‍लंघन’ की जांच होनी चाहिए। अचानक सुपरसोनिक मिसाइल लैंड होने से पाकिस्‍तानी खौफ में आ गए। वहां की सरकार ने कहा कि ऐसे हादसे से यात्री विमानों और नागरिकों की जान को खतरा हो सकता था। भारत को चेतावनी देते हुए पाकिस्‍तान ने कहा कि वह ऐसी लापरवाही के नतीजों को ध्‍यान में रखे और ऐसे कदम उठाए जिससे भविष्‍य में ऐसे उल्‍लंघन दोबारा न हो।

पाकिस्‍तान इस घटना से बेहद नाराज था। भारत के दूत से बताया गया कि मिसाइल हरियाणा के सिरसा से लॉन्‍च की गई और यह सूरतगढ़ के रास्‍ते पाकिस्‍तान में शाम करीब 6.43 बजे दाखिल हुई। लगभग 6.50 बजे मिसाइल मिया चुन्‍नू शहर के पास गिर गई। पाकिस्‍तान ने कहा कि मिसाइल का रास्‍ता ऐसा था कि कई घरेलू और अंतरराष्‍ट्रीय उड़ानों को खतरा हो सकता था।

मामले को तूल देने की फिराक में पाक
पाकिस्‍तान ने विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि भारत ने पाकिस्‍तान के एयरस्‍पेस का उल्‍लंघन कर निर्दोष जिंदगियों को खतरे में डाला। इसके अलावा सऊदी और कतर एयरलाइंस के अलावा घरेलू फ्लाइट्स पर भी खतरा मंडरा रहा था। भारत का जवाब मिलने के बाद पाकितान अपना अगला कदम तय करेगा। कुरैशी ने कहा कि P-5 देशों (संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद के स्‍थायी सदस्‍यों) को विदेश कार्यालय में बुलाकर घटना के बाद जानकारी दी जाएगी। उन्‍होंने कहा, ‘भारत को इसके लिए जवाब देना ही पड़ेगा।’

पाकिस्‍तानी NSA ने भारत की क्षमता पर खड़े किए सवाल
किस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) मोईद युसूफ ने सेंसिटिव टेक्‍नोलॉजी को हैंडल करने की भारत की क्षमता पर सवाल उठाया। यूसुफ ने कई ट्वीट्स में कहा कि भारत सरकार ने पाकिस्तान को घटना की जानकारी देने की भी जहमत नहीं उठाई। उन्होंने कहा, ‘इससे ऐसी संवेदनशील प्रैाद्योगिकियां संभालने की भारत की क्षमता पर गंभीर सवाल खड़े होते हैं।’ पाकिस्‍तानी NSA ने हा कि मिसाइल अंतरराष्ट्रीय और घरेलू उड़ान के रास्ते के करीब से गुजरी थी और नागरिकों की सुरक्षा को खतरा था। यूसुफ ने भारत में यूरेनियम चोरी की कई घटनाओं की ओर भी इशारा करते हुए कहा कि ‘हालिया दिनों में यूरेनियम की तस्करी के आरोप में लोगों को गिरफ्तार किया गया।’

Source link

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts