Saturday, October 1, 2022

मोदी सरकार के 8 साल: BJP हुई बेहद मजबूत, 18 राज्यों में कमल

‘मैं… नरेंद्र दामोदर दास मोदी आज ही के दिन साल 2014 में नई दिल्ली के राष्ट्रपति भवन से ये शब्द पूरे देश ने सुना था. मौका था भाजपा की पहली पूर्ण बहुमत वाली नई-नवेली सरकार के शपथ ग्रहण समारोह का.

समारोह में देश-विदेश के करीब 4 हजार चुनिंदा लोग मौजूद थे. उस वक्त के राष्ट्रपति रहे प्रणब मुखर्जी ने स्टेज पर सबसे पहले नरेंद्र मोदी को शपथ के लिए बुलाया. मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली. इसके साथ ही देश को आज ही के दिन 15वां प्रधानमंत्री मिला. 2014 का आम चुनाव इसलिए खास था, क्योंकि 30 साल बाद किसी पार्टी को पूर्ण बहुमत मिला था. 2014 के लोकसभा चुनाव में जीत के बाद नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा एक के बाद एक राज्य दर राज्य चुनाव जीतती रही नए-नए रिकॉर्ड बनाती रही. 18 करोड़ प्राथमिक सदस्यों के साथ इस वक्त भाजपा दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बन गई है. इसके साथ ही इस वक्त 21 राज्यों में भाजपा या फिर भाजपा गठबंधन की सरकार है.

राज्यों में भी बढ़ी भाजपा की ताकत

2014 में नरेंद्र मोदी जब देश के प्रधानमंत्री बने थे उस समय देश के सिर्फ सात राज्यों में भाजपा उसके सहयोगियों की सरकार थी. 5 राज्यों में भाजपा के मुख्यमंत्री थे तो वहीं, 2 राज्य बिहार पंजाब में सहयोगी दल के नेता सरकार के मुखिया थे. इसके बाद भाजपा की जीत का सफर शुरू हुआ 2018 में भाजपा अब तक के पीक पर पहुंच गई, जब देश के 21 राज्यों में भाजपा उनके सहयोगी दलों की सरकार थी. आगे चलकर कुछ राज्यों में भाजपा को हार का सामना करना पड़ा लेकिन वर्तमान में भी भाजपा मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस की तुलना में काफी आगे है सबसे बड़ी बात है कि मोदी सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं, बेहतर रणनीति संगठन बूथ स्तर तक चुनावी रणनीति बनाकर भाजपा भविष्य में भी लगातार चुनाव जीतते रहने की रणनीति बना रही है.

अब भी ताकत बढ़ाने में जुटे हैं भाजपा हाल ही में जयपुर में आयोजित पार्टी पदाधिकारियों की बैठक को वर्चुअली संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा की विकास यात्रा के साथ-साथ भविष्य की योजना बताते हुए यह कहा था कि देश के 18 राज्यों में भाजपा की सरकार है. भाजपा के 1300 से अधिक विधायक 400 से अधिक सांसद हैं. इन सभी सफलताओं को देखकर कोई यह सोच सकता है कि अब काफी हो गया लेकिन भाजपा कार्यकर्ता होने के नाते हमें चैन से बैठने का कोई हक नहीं है, कोई अधिकार नहीं है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अगले 25 वर्षों का लक्ष्य निर्धारित करते हुए भाजपा के तमाम कार्यकर्ताओं नेताओं को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ देश के सभी वर्गों के लोगों तक पहुंचे.

2024 की तैयारी में जुटी भाजपा

यही वजह है कि सत्ता में आने के 8 वर्ष पूर्ण होने के एक दिन पहले भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा देश के तमाम बूथों पर भाजपा को मजबूत बनाने की रणनीति को अमलीजामा पहनाने के लिए सुबह ‘बूथ सशक्तिकरण अभियान’ कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे तो शाम को गृह मंत्री अमित शाह मोदी सरकार के अन्य मंत्रियों के साथ बैठक कर उन्हें पिछले लोकसभा चुनाव में हारे हुए 144 लोकसभा सीटों पर जीत दिलाने का टास्क सौंप रहे थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वयं आज दोपहर को हैदराबाद में आईएसबी के दीक्षांत समारोह को संबोधित करने जा रहे हैं शाम को चेन्नई के जेएलएन इंडोर स्टेडियम में विभिन्न परियोजनाओं का उद्घाटन शिलान्यास करेंगे.

2019 लोकसभा में भी भाजपा ने रचा इतिहास

2019 में लगातार दूसरी बार पहले से भी ज्यादा 303 लोकसभा सीटों पर अकेले जीत हासिल कर प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता की बागडोर संभाल कर मोदी ने एक रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया. इंदिरा गांधी के बाद वो देश के पहले प्रधानमंत्री बन गए है, जिन्होंने लगातार दूसरी बार बहुमत के साथ सरकार बनाई है. 2019 में के लगातार दूसरी बार लोकसभा चुनाव जीतने के बाद नरेंद्र मोदी ने 30 मई 2019 को प्रधानमंत्री पद की दोबारा शपथ ली थी. इसलिए इस बार भाजपा केंद्र सरकार 30 मई से ही देश भर में सरकार के 8 वर्ष पूरा होने पर मेगा अभियान चलाने जा रही है. इस अवसर पर भाजपा देशभर में 30 मई से 14 जून तक सेवा, सुशासन गरीब कल्याण’ की थीम पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करने जा रही है.

विकास भ्रष्टाचार के मुद्दे पर मिली थी जीत विकास के सपने भ्रष्टाचार के खिलाफ लहर पर सवार होकर आई भाजपा ने 282 सीटें जीती थीं. जबकि, आजादी के बाद से लगभग लगातार राज करने वाली कांग्रेस को मात्र 44 सीटें ही मिली थी. गौरतलब है कि 1984 के आम चुनावों में कांग्रेस ने 414 सीटें जीती थीं. उसके बाद किसी एक पार्टी द्वारा जीती गईं ये सबसे ज्यादा सीटें थीं. पिछले चुनावों के मुकाबले कांग्रेस को 162 सीटों का नुकसान हुआ तो भाजपा को 166 सीटों का फायदा हुआ था.

HIGHLIGHTS

• 2014 में पहली बार बनी थी भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार

• 2019 में जनता ने भाजपा को दिया पहले से भी बड़ा जनादेश

• 5 राज्यों से बढ़कर 18 राज्यों में फैली भाजपा, अब भी विस्तार जारी

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts