Saturday, October 1, 2022

सीकर जिले में कुत्ते के मौत के बाद हिन्दू रीती ऋवष से कराया उसका अंतिम संस्कार, जागरण, हवन और मुंडन करवा दी अंतिम विदाई

बेजुबान से भला ऐसी मोहब्बत भी कोई कर सकता है जहां एक कुत्ते की मौत पर इस तरह के कार्यक्रम हुए जो आमतौर पर एक इंसान की मौत के बाद भी नसीब नहीं होते। कुत्ते की मौत के बाद उसे पूरे विधि विधान से दफनाया गया घर के लोगों ने मुंडन करवाया हिंदू रीति रिवाज से जागरण हुआ और भंडारा व हवन भी हुआ। यह सब एक पालतू कुत्ते की मौत पर किया गया। यह मामला है सीकर जिले के फतेहपुर के भार्गव मोहल्ला निवासी अशोक गौड़ के घर का है। अशोक गॉड ने 5 साल से एक पालतू कुत्ते को पाल रखा था। दिल्ली से इस कुत्ते को लेकर आए थे और उसके बाद वह परिवार के सदस्य की तरह ही था। उसके लिए उन्होंने घर में भी अलग से रहने की व्यवस्था कर रखी थी उसका अलग से बेड था और उसे बच्चे की तरह रखा जाता था। उस को कपड़े पहनाने से लेकर बर्थडे तक बच्चों की तरह ही मनाए जाते थे। करीब 3 माह पहले कैप्टन बीमार हो गया। इसके बाद कैप्टन का जयपुर में ऑपरेशन करवाया गया लेकिन इलाज नहीं बैठा तो फिर दिल्ली में इलाज करवाया गया। इसके बाद उसके लिए अमेरिका से दवाइयां मंगवाई तमाम कोशिश के बावजूद परिवार के सदस्य चिकित्सक के कैप्टन की जान नहीं बचा पाए। 2 दिन पहले कैप्टन की मौत हो गई तो परिवार के सदस्यों में मातम छा गया। इसके बाद अशोक गौड़ ने हिंदू विधि विधान से अंतिम संस्कार करवाया। अशोक गौड़ ने मुंडन करवाया। कैप्टन को श्रद्धांजलि देने के लिए बैठक का आयोजन किया गया। रात को शेखावाटी के प्रसिद्ध संतों को बुलाकर जागरण का आयोजन किया गया।

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts