Saturday, October 1, 2022

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का बीजेपी पर तीखा हमला, चुनाव से पहले भाजपा नेताओं पर हिन्दू – मुस्लिम राजनीती करने का लगाया आरोप

ख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बीजेपी पर तीखा हमला किया है। उन्होंने कहा कि ये बीजेपी के नेता आग लगाने का काम कर रहे हैं। आग बुझाने में इनका कोई योगदान नहीं है। करौली हिंसा से जुड़े सवाल का जबाव देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि करौली में जो हुआ, वहां सरकार अपना काम कर रही है। दोषियों को गिरफ्तार किया जा रहा है लेकिन बीजेपी के लोग जानबूझकर राजनीति कर रहे हैं क्योंकि राजस्थान में चुनाव आ रहे हैं। गहलोत ने कहा कि यहां के नेताओं को ऊपर से ईशारा किया गया है कि तनाव पैदा करो, माहौल खराब करो और हिन्दू मुस्लिम को लेकर ध्रुवीकरण करो ताकि चुनाव में कामयाब हो सकें।

अशोक गहलोत ने विपक्ष को निकम्मा और नकारा कहा

महात्मा ज्योतिबा फूले की जयन्ती के मौके पर मीडिया से बात करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्ष की भूमिका निभाने में बीजेपी फेल साबित हुई है। उन्होंने बीजेपी को निकम्मा और नकारा तक करार दिया। गहलोत ने कहा कि पिछले साढे तीन साल में ये लोग कोई कमी उजागर नहीं कर पाए। ऐसे में ऊपर से इशारा किया गया है कि आपके पास अब एक ही रास्ता बचा है कि तनाव पैदा करो, माहौल खराब करो ताकि आगामी चुनाव जीतने के चांस बढ सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने बेहतरीन बजट पेश किया। जनकल्याणकारी योजनाएं लेकर आए हैं। प्रदेश की जनता गुड गवर्नेंस के साथ हैं और इस बार जनता इन्हें करारा जवाब देगी।

न्यायिक जांच की मांग करते हुए राज्यपाल को ज्ञापन दिया बीजेपी ने

भारतीय जनता पार्टी ने सोमवार 11 अप्रैल को करौली हिंसा प्रकरण की न्यायिक जांच की मांग करते हुए राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा। बीजेपी के प्रतिनिधि मंडल ने प्रदेश सरकार की अकर्मण्यता और लापरवाही के कारण करौली में हुए दंगों की तथ्यात्मक रिपोर्ट मांगने की बात कही है। साथ ही पीड़ित परिवारों को आर्थिक सहायता और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की गई।

प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया के नेतृत्व में 17 सदस्यीय मंडल राजभवन गया था। इनमें नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र सिंह राठौड़, राज्यसभा सांसद डॉ. किरोड़ीलाल मीणा, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरुण चतुर्वेदी, सांसद जसकौर मीणा, सुखबीर सिंह जौनपुरिया, मनोज राजोरिया, रंजीता कोली, प्रदेश उपाध्यक्ष मुकेश दाधीच, विधायक रामलाल शर्मा, कन्हैयालाल चौधरी, महिला मोर्चा की प्रदेशाध्यक्ष अल्का मूंदड़ा, युवा मोर्चा के अध्यक्ष हिमांशु शर्मा, करौली जिला अध्यक्ष बृजलाल डिकोलिया और पूर्व विधायक रामहेत यादव शामिल थे।

यह भी पढ़े

REET 2022 : इस तारीख से शुरू होगी रीट के लिए आवेदन की प्रक्रिया,यहाँ पढ़े कैसे कर सकेंगे आवेदन

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts