Wednesday, September 28, 2022

आजाद, आनंद, चिदंबरम और जयराम… राज्यसभा सीट के लिए ये बुजुर्ग लगा सकते हैं चौका, कैसे कांग्रेस में युवाओं को मिलेगा मौका

राजस्थान के उदयपुर में इसी महीने हुए कांग्रेस के चिंतन शिविर में पार्टी के ‘उदय’ के लिए कुछ फैसले लिए गए थे। इनमें से ही एक फैसला यह था कि युवाओं को बड़े पैमाने पर भागीदारी दी जाएगी।

लेकिन ऐसा होता नहीं दिख रहा है। देश के 11 राज्यों में राज्यसभा की 55 सीटें खाली हो रही हैं। इनमें से 11 सीटों पर कांग्रेस जीतने की स्थिति में है, लेकिन इस रेस शुरू हो गई है। पार्टी के ज्यादातर अनुभवी चेहरे अपनी दावेदारी जता रहे हैं। में यह सवाल भी उठता है कि युवाओं को मौका देने के कांग्रेस के संकल्प का क्या होगा।

कपिल सिब्बल के जाने से बढ़ा लीडरशिप पर दबाव

यही नहीं पार्टी लीडरशिप भी कपिल सिब्बल के एग्जिट के बाद दबाव में है, जिन्होंने 16 मई को कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सांसद चुने जाने के लिए समाजवादी पार्टी समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर नामांकन भी दाखिल कर दिया है। एक तरफ मुकुल वासनिक महाराष्ट्र से राज्यसभा जाने की रेस में हैं तो वहीं पूर्व वित्त एवं गृह मंत्री पी. चिदंबरम, जयराम रमेशन, अंबिका सोनी, विवेक तन्खा, प्रदीप टम्टा और छाया वर्मा का भी कार्यकाल समाप्त हो रहा है। इन सभी नेताओं को एक बार फिर से राज्यसभा जाने की उम्मीद है।

चिदंबरम और जयराम रमेश पर हाईकमान भी सहमत

इनमें से दो सीनियर नेताओं पी. चिदंबरम और जयराम रमेश को लेकर पार्टी हाईकमान पर भी सहमत नजर आ रहा है। सूत्रों के मुताबिक पी. चिदंबरम को तमिलनाडु से तो जयराम रमेश को कर्नाटक से राज्यसभा भेजा जा सकता है। हालांकि यह देखने वाली बात होगी कि 5 बार सांसद रह चुकीं अंबिका सोनी को दोबारा मौका मिलता है या नहीं। इसके अलावा गुलाम नबी आजाद को राजस्थान से भेजे जाने की चर्चा है और आनंद शर्मा भी खुद को रेस से बाहर नहीं मान रहे हैं। टीम राहुल गांधी का हिस्सा कहे जाने वाले रणदीप सुरजेवाला और अजय माकन भी दावेदारी जता रहे हैं।

हरियाणा से आनंद शर्मा भी हैं रेस में

फिलहाल कांग्रेस के राज्यसभा में 29 सदस्य हैं। अब कांग्रेस को उम्मीद है कि वह दो से तीन सीटें राजस्थान से जीत जाएगी। इसके अलावा छत्तीसगढ़ में दो सीटें जीतने की स्थिति में है। वहीं झारखंड, महाराष्ट्र, हरियाणा, मध्य प्रदेश और कर्नाटक से भी 1-1 सीट जीतने की स्थिति बन रही है। हरियाणा की बात करें तो पूर्व सीएम भूपिंदर सिंह हुड्डा का समर्थन आनंद शर्मा को मिल सकता है। लेकिन उनके मुकाबले सुरजेवाला, कुमारी शैलजा और कुलदीप विश्नोई भी दावेदारी कर रहे हैं।

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts