Monday, September 26, 2022

सवा करोड़ की लागत से होगा तैयार बाल हनुमान मंदिर , डेगाना शहर का सबसे बड़ा मंदिर

नागौर जिले के डेगाना शहर के चान्दारूण रोड पर निर्माणाधीन श्री बाल हनुमान मंदिर का इतिहास काफी पुराना है।
यह मंदिर सन 1950-55 के करीब पुराना मंदिर है, जिसके सामने डेगाना की सबसे पुरानी राजकीय स्कूल का निर्माण किया हुआ है।
पर्व में इस विद्यालय में पढ़ने वाले विद्यार्थियों ने सन 1955 -56 में डेगाना जंक्शन स्थित राजकीय हाई सेकेंडरी स्कूल में पैदल कच्चे रास्ते आते जाते थे।

उस समय पढ़ने वाले छात्रों मेंकरवा परिवार व नावन्धर परिवार सहित अन्य समाज के छात्रों ने अनुमान से बीचों-चों बीच एक खेजड़ी के नीचे बालाजी का पत्थर रखकर सिंदूर चढ़ाकर पूजा करने लग गए. जानकारी के मुताबिक द्वारका प्रसाद करवा,राधेश्याम सेवक व अन्य साथियों में शिव प्रसाद तिवारी, मदन लाल तिवारी, मालपानी परिवार के छात्रों ने इसका नाम बाल हनुमान नाम रख दिया। धीरे-धीरे श्री भंवर लाल करवा के रिश्तेदारो ने मिलकर एक छोटा मंदिर करीब 1965 में बना दिया। read also – जसकौर के बयान पर भड़के किरोड़ी बोले, आरक्षित सीट से दे इस्तीफा, जाने क्या है पूरा मामला

बाल हनुमान मंदिर का 1978 में हुआ जीर्णोद्धार

डेगाना-चांदारुण हाइवे पर नवनिर्माणित भव्य मंदिर से छात्रों की मनोकामनाएं पूर्ण होने पर गौतमचंद कोठारी पुत्र जब्बरचन्द कोठारी सर्फ़रा व्यवसाई निवासी चांदारुण वालों ने व्याख्याता लालचंद के कहने पर इसका जीर्णोद्धार 1978 में करवाया गया. इससे पहले चांदारुण के सेठ साहूकारों द्वारा एक प्याऊ भी बनवाई. इसके पास ही एक सर्वेश्वर प्याऊ का निर्माण रामानंद, रामपाल नावेंधर चांदारुण वालों ने वर्ष 1970 में करवाया गया।

बार-बार बनी कमेटियां

बाल हनुमान मंदिर को बनाने की प्रेरणा जागृत हुई जिसमें लालचंद लखारा निवासी चांदारुण ने आगे बढ़कर गांव वालों को प्रेरित कर एक कमेटी का निर्माण किया। जिसमें अध्यक्ष जुगलकिशोर, कोषाध्यक्ष गौतमचंद कोठारी महामंत्री लालचंद लखारा को बनाया गया। जिसमें पुखराज कोठारी नंदू तोषनीवाल, श्रीकृष्ण जोशी सहित कुल 11 सदस्य बनाए गए लेकिन मन्दिर का निर्माण नही किया जा सका।
नथमल दरिया हाल निवासी हैदराबाद वालो ने सन 2000-01 में मंदिर निर्माण की मीटिंग चांदारुण में आयोजित की जिसमें जुगल नांवधर, लालचंद लखारा, नंदलाल मांनधना ने भरपूर कोशिश की लेकिन काम आगे नहीं बढ़ा. काफी वर्ष बीत जाने के बाद नथमल डालिया, नन्द लाल मांनधना,रामस्वरूप करवा, राजगोपाल मालपानी, लालचंद लखारा आदि की प्रेरणा से एक नवीन कमेटी 2013-14 में बनाई।

जिसमें अध्यक्ष रामकिशोर नांवधर, कोषाध्यक्ष धनराज खंडेलवालसुनील टेलर, मुकेश कुमार लखारा को महामंत्री बनाए गए, जिसमें 21 सदस्य बनाए गए। पुनः नवीन निर्माण की नींवनीं दिनांक 11 नवंबर 2017 विजयदशमी को रखी गई. श्री बाल हनुमान मंदिर का रजिस्ट्रेशन 199 नागौर 2013-14 पर हो रखा है। read more- आरपीएससी साइट पर रजिस्ट्रेशन में की गलती तो नहीं मिलेगा चेंज का ऑप्शन

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts