Saturday, October 1, 2022

केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने क्यों कहा- ‘जादूगर को आती है जादूगरी’

राजस्थान के बारां में हुए भाजपा के प्रशिक्षण शिविर में भाग लेने एक दिवसीय दौरे पर आए केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने पत्रकार वार्ता में राजस्थान सरकार पर जमकर निशाना साधा है. उन्होंने ईस्टर्न राजस्थान कैनाल प्रोजेक्ट को लेकर राज्य सरकार को कटघरे में खड़ा किया है. उन्होंने कहा की राजस्थान सरकार जिद्द त्याग कर 13 जिलों के लोगों के सूखे कंठों की ओर देखें और केंद्र सरकार के नियमों के अनुसार प्रोजेक्ट बनाकर उन्हें भेजें. वह एक महीने के भीतर इस प्रोजेक्ट का निस्तारण करवा देंगे. साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह करेंगे कि केंद्र सरकार के अनुदान राशि 90 फीसदी तक की जाए. उन्होंने इस मामले पर मामले को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा फुटबॉल ना बनाने को कहा.

वहीं प्रदेश में बढ़ते अपराध और भ्रष्टाचार को लेकर भी शेखावत ने राज्य सरकार पर गंभीर आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि प्रदेश में अपराध बेलगाम हो रहा है.  महिला अत्याचार बढ़ रहा है. सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी है. वहीं भ्रष्टाचार के मामले में कहा कि बड़े-बड़े अधिकारियों को  भ्रष्टाचार  में पकड़े जाने के बाद भी फिर से उसी कुर्सी पर बिठा दिया जाता है. भ्रष्टाचारियों को सरकार का समर्थन प्राप्त है.

वहीं हाल ही में जयपुर में आरएएस अधिकारियों द्वारा एसीबी को टूल बनाए जाने के आरोप को लेकर भी उन्होंने सरकार पर हमला बोला. शेखावत ने कहा कि अब तो सरकार के अधिकारी ही सरकार पर आरोप लगा रहे हैं कि एसीबी को टूल बना कर काम लिया जा रहा है.

जनता जल मिशन में राज्य के पिछड़ेपन को लेकर भी उन्होंने राज्य सरकार को आड़े हाथों लिया.  उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा राज्य सरकार को 27 हजार करोड़ रुपये की ग्रान्ट दी गई, लेकिन राज्य सरकार मात्र  4 हजार करोड़ रुपये के करीब ही ले पाई है. राजस्थान प्रगति के मामले में देश के 33 प्रदेशों में 32वें नंबर पर है.

बिजली संकट पर सरकार को घेरा 

बिजली संकट पर किए गए सवाल को लेकर उन्होंने कहा कि सरकार अपनी विफलताओं को छुपाती है और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत  इस में माहिर है. उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि मुख्यमंत्री को जादूगरी खूब आती है इसीलिए वह जादूगर कहलाते हैं. उन्होंने प्रदेश में कोयले संकट को लेकर राज्य सरकार पर गंभीर आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि राजस्थान ने अपने हिस्से का कोयला चोरी छुपे पिछले गेट से बेच दिया है.

वहीं प्रदेश में भाजपा के मुख्यमंत्री के चेहरे के सवाल पर उन्होंने कहा कि वह पार्टी के कार्यकर्ता के रूप में काम करते हैं. सीएम तय करना पार्टी शीर्ष  का काम है. अगर उन्हें आदिवासियों के बीच काम करने को भेजा जाएगा तो अभी वह पूर्ण निष्ठा से करेंगे.  इससे पूर्व शेखावत ने मिनी सचिवालय स्थित सभागार में केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं की समीक्षा बैठक की. इस दौरान उन्होंने अति महत्वकांक्षी जिले में शामिल बारां जिले में कुपोषण,  शिक्षा, स्वास्थ्य और पेयजल आदि इंतजामों में सुधार के निर्देश दिए.

राजस्थान में पशुओं के लिए चारे का संकट, मप्र.और यूपी ने आपूर्ति रोकी

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts