Monday, September 26, 2022

अजमेर में महिला के साथ छेड़छाड़ का मामला, डॉक्टर बोला- नर्स ने मुझे थप्पड़ मारे, गालियां दीं, विवाद में धरने पर बैठे नर्सिंगकर्मी, डॉक्टर पहुंचा थाने

अजमेर के सरकारी अस्पताल में अब डॉक्टर के खिलाफ विवाद खड़ा हो गया है। डॉक्टर का आरोप है कि नर्स ने उसे थप्पड़ मारा। जातिसूचक शब्दों से उनका अपमान किया गया। बुधवार की देर रात डॉक्टर कोतवाली थाने पहुंचे और महिला नर्सिंगकर्मी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई।

अब इस पूरे घटनाक्रम को लेकर दोनों पक्ष आमने-सामने आ गए हैं और एक दूसरे का विरोध कर रहे हैं। ऐसे में अस्पताल की व्यवस्था भी प्रभावित हो रही है। पता चला है कि महिला नर्सिंगकर्मी का आरोप है कि मंगलवार देर रात जेएलएन अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में शराबी डॉक्टर ने उसे छेड़ा। कहा, ‘अपना मुखौटा उतारो, मैं तुम्हें चूम लूंगा।’ विरोध करने पर नर्सिंगकर्मी को थप्पड़ जड़ दिया। महिला नर्सिंगकर्मी ने कोतवाली थाने में डॉक्टर के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। इसके बाद डॉक्टरों ने विरोध भी किया।

इधर, छेड़छाड़ के आरोपी डॉक्टर ने भी बुधवार देर रात थाने पहुंचकर कोतवाली में शिकायत दर्ज कराई। आरोप है कि नर्सिंगकर्मी ने उसे थप्पड़ जड़ दिया। विवाद इतना बढ़ गया कि देर रात तक नर्सिंगकर्मी जेएलएन अस्पताल के बाहर धरने पर बैठे रहे। उनकी गिरफ्तारी की मांग को लेकर अभी भी बहिष्कार जारी है।

महिला नर्सिंगकर्मी ने आरोप लगाया कि वह दोपहर करीब 1.30 बजे ओटी में काम कर रही थी. इसी बीच रेजिडेंट डॉक्टर ईशान नशे की हालत में वहां पहुंचे। गाली गलौज कर उन्हें चिढ़ाया। जिसका एक महिला कर्मचारी ने विरोध किया। महिला नर्सिंग स्टाफ का आरोप है कि डॉक्टर ने ईशान को थप्पड़ मारने के बाद उसके साथ गाली-गलौज की और उसे धमकाया।


घटना के बाद नर्सिंग कर्मियों ने धरना का बहिष्कार किया। राजस्थान नर्सेज एसोसिएशन अजमेर इकाई के अध्यक्ष गंगाशरण जाट्वे ने कहा कि घटना के बाद से नर्सों के संघ में आक्रोश है। डॉ. एसोसिएशन। उन्होंने सरकारी काम में बाधा डालने और महिलाओं पर अत्याचार का मामला दर्ज करने के लिए ईशान के खिलाफ कार्रवाई की भी मांग की।


बाद में नर्सिंग स्टाफ ने कोतवाली थाने पहुंचकर डॉक्टर ईशान के खिलाफ छेड़छाड़ व मारपीट की शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने पीड़िता की शिकायत पर अपराध दर्ज कर लिया है। पुलिस व अस्पताल प्रशासन को समझाने के लिए दोनों पक्षों की ओर से कई प्रयास किए गए। लेकिन, बात नहीं बनी और जेएलएन अस्पताल के बाहर नर्सिंग कर्मियों द्वारा विरोध प्रदर्शन अभी भी जारी है।


इसके बाद डॉ. ईशान बुधवार की रात थाने पहुंचे और आरोपित महिला नर्सिंगकर्मी पर थप्पड़ मारने और अश्लील इशारे करने, गाली-गलौज कर गाली गलौज करने और प्रताड़ित करने का आरोप लगाते हुए कोतवाली थाने में शिकायत दर्ज कराई। डीएसपी छवि शर्मा ने बताया कि आरोपी डॉक्टर की ओर से शिकायत भी दर्ज करायी गयी है. पुलिस जांच कर रही है।


नर्सिंग कर्मी न्याय की मांग को लेकर महिलाओं के साथ हड़ताल पर थे और रात में भी बाहर धरना देते रहे। दूसरी ओर, हड़ताल ने अस्पताल की व्यवस्था को प्रभावित किया और निवासियों और वरिष्ठ डॉक्टरों ने पदभार संभाला।

विवाद पर किसी ने क्या कहा?

जेएलएन अस्पताल में रेजिडेंट डॉक्टरों के अध्यक्ष अभिषेक ने कहा कि महिला नर्सिंगकर्मी ने रात में डॉक्टर के साथ बदसलूकी की और उसे थप्पड़ जड़ दिया।  सुबह होते ही मामले को नया रूप दे दिया गया। डॉक्टर की ओर से भी शिकायत की गई है। आपातकालीन सेवाओं को प्रभावित करने वाली हड़ताल पर जाना गलत है। राजस्थान नर्सेज एसोसिएशन अजमेर इकाई के अध्यक्ष गंगाशरण जाट्वे ने कहा कि वे महिला नर्सिंग कर्मियों के न्याय पाने के फैसले के विरोध में काम का बहिष्कार कर रहे थे, लेकिन प्रशासन केवल निवासियों का समर्थन कर रहा था।  अब रहवासियों की ओर से झूठा मामला दर्ज कराने का प्रयास किया जा रहा है।अजमेर नॉर्थ सीओ छवि शर्मा ने बताया कि एक नर्सिंगकर्मी की शिकायत पर कोतवाली थाने में डॉक्टर के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।  डॉक्टर ने रात में महिला नर्सिंगकर्मी के खिलाफ भी शिकायत दर्ज कराई है।  मामले की जांच की जा रही है।जेएलएन अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टरों के कानूनी सलाहकार डॉ. सिद्धार्थ भारतीय ने कहा कि घटना के बाद साथ बैठकर विचार-विमर्श कर फैसला लेना चाहिए था। लेकिन नर्सिंग कर्मियों ने पहले ही फैसला कर धरना शुरू कर दिया है, जो गलत है। 

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts