Wednesday, September 28, 2022

लालू यादव-राबड़ी-मीसा भारती के 17 ठिकानों पर CBI छापे, विरोध में धरने पर बैठे RJD कार्यकर्ता, जमकर नारेबाजी

केन्द्रीय जांच एजेंसी सीबीआई  (CBI) ने लालू यादव से जुड़े 17 ठिकानों पर छापेमारी की है. बताया जा रहा है कि लालू यादव, उनकी पत्नी राबड़ी देवी और बेटी मीसा भारती के पटना, गोपालगंज और दिल्ली स्थित जगहों पर ये छापेमारी की जा रही है. सीबीआई ने ये कार्रवाई भ्रष्टाचार से जुड़े मामले में की है, जिसका विरोध शुरू हो चुका है. RJD कार्यकर्ता इसको लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साध रहे हैं.दरअसल, ये मामला भर्ती घोटाले से जुड़ा है. आरोप है कि जॉब लगवाने के बदले में जमीन और प्लॉट लिए गए थे. सीबीआई ने इसी मामले में जांच के बाद लालू यादव, राबड़ी देवी, मीसा यादव, हेमा यादव और कुछ ऐसे उम्मीदवारों पर केस दर्ज किया है, जिन्हें प्लॉट या प्रॉपर्टी के बदले जॉब दी गई. 

किस मामले में हो रही छापेमारी ?

सीबीआई सूत्रों ने इंडिया टुडे से बताया कि लालू यादव जब केंद्रीय रेल मंत्री थे, तब जॉब के बदले लोगों से जमीन ली गई थी. इसी मामले में सीबीआई ने मामला दर्ज किया है. सीबीआई इसी मामले में लालू से जुड़े 17 ठिकानों पर छापेमारी कर रही है. 

2004 से 2009 के बीच रेलमंत्री थे. जब वे रेल मंत्री थे, जब ऐसे कई मामले सामने आए थे कि जॉब के बदले जमीन दी गई थी.

पटना में भी रेड
पटना के 10 सर्कुलर रोड स्थित राबड़ी देवी के आवास पर भी छापेमारी जारी है. आवास के अंदर सीबीआई के अफसर कार्रवाई कर रहे हैं. ये रेड सुबह से जारी है.

‘लालू और नीतीश की दूरियां कम होते देख बीजेपी परेशान’
लालू यादव के ठिकानों पर RJD विधायक मुकेश रोशन ने कहा कि जिस तरीके से नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव के बीच में इफ्तार पार्टी के बाद दूरियां कम हुई है और दोनों साथ नजर आते हैं इससे बीजेपी परेशान है. रोशन ने कहा कि बीजेपी के इशारे पर ही सीबीआई की छापेमारी चल रही है. रोशन ने कहा कि बीजेपी लालू परिवार को परेशान और तंग करने के इरादे से रेड करवा रही है.

लालू की बेटी रोहिणी आचार्य ने कसा तंज
लालू की बेटी रोहिणी आचार्य ने सीबीआई की कार्रवाई को लेकर तंज कसा है. उन्होंने ट्वीट किया, लालू के रेलवे कार्यकाल में बड़ी लापरवाही हुई, सावरकर के वंशज का आरोप लालू जी ने रेलवे को 90,000 करोड़ का मुनाफा कैसे दिया, जिस लालू ने लाखों युवाओं के लिए रेलवे में भर्ती कैसे निकाली, कुलियों को स्थायी क्यों किया ? उस लालू पर 15 साल बाद छापा मरवाया जा रहा है और आगे भी जारी रहेगा.

लालू को कुछ ही हफ्तों पहले मिली थी जमानत
सीबीआई की ये कार्रवाई ऐसे वक्त पर हुई, जब कुछ ही हफ्तों पहले लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले से जुड़े डोरंडा ट्रेजरी मामले में जमानत मिली थी. यह मामला डोरंडा कोषागार से 139 करोड़ रुपये की निकासी का था. 1990 से 1995 के बीच डोरंडा कोषागार से 139 करोड़ रुपये की निकासी की गई थी. करीब 27 साल बाद कोर्ट ने इसी साल फरवरी में इस घोटाले पर फैसला सुनाया था, जिसमें लालू यादव को दोषी पाया गया था. इस मामले में लालू यादव को पांच साल की सजा हुई है.

जयपुर में बोले PM मोदी : परिवारवाद-वंशवाद लोकतंत्र के लिए सबसे घातक, BJP ने स्थापित की विकासवाद की राजनीति

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts