Saturday, October 1, 2022

करौली हिंसा के बाद लगी पाबंदी , जिले से बाहर जाने के लिए पुलिस से अनुमति लेना आवश्यक, जाने पूरी खबर

राजस्थान के करौली शहर में शनिवार को हिंदूवादी संगठनों की बाइक रैली पर पथराव के बाद बवाल हो गया था. यहां उपद्रव में हिंसा भड़क गई. हिंसा में 35 से ज्यादा दुकानें जला दी गईं. वहीं आधा दर्जन से ज्यादा बाइक में तोड़फोड़ की गई. दो मोटरसाइकिलों को भी आग के हवाले कर दिया गया. हिंसा की स्थिति बिगड़ते देख पुलिस ने मोर्चा संभाला और कर्फ्यू लगा दिया गया. अब यह कर्फ्यू 4 अप्रैल तक लागू रहेगा. शहर भर में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है. रैली पर पथराव के बाद उपजे तनाव को लेकर पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया है. शहर के 15 से ज्यादा जगहों पर पुलिस के जत्थे तैनात किए गए हैं. शनिवार को भड़की इस हिंसा के बाद रात तक पुलिस ने स्थिति अपने कंट्रोल में ले ली. अब शहर में 50 पुलिस अधिकारियों समेत 600 जवान तैनात हैं.

कार्रवाई में जुटी पुलिस
पुलिस ने हालात काबू में आने के बाद उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई करना शुरू कर दिया है. कलेक्टर राजेंद्र सिंह शेखावत ने मामले की जानकारी देते हुए बताया कि पुलिस एक्शन मोड में है. लगातार उपद्रवियों की तलाश की जा रही है. अब तक 30 से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया है. रात करीब एक बजे तक चली बैठक में सहमति बनी की दोनों समुदाय के लोग घरों में रहेंगे और आसपास के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करेंगे. कलेक्टर ने बताया कि रात में साढ़े 10 बजे के बाद हालात काबू में आने लगे थे. लोगों से घरों के अंदर रहने की अपील की जा रही है. रविवार को सड़कों पर भी कर्फ्यू का असर देखने को मिल रहा है.

क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद
बता दें कि शहर में उपद्रव के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया है. यह कर्फ्यू 4 अप्रैल तक लागू रहेगा. इस दौरान किसी को भी घरों से बाहर निकलने की अनुमति नहीं होगी. जिले में इंटरनेट की सेवाएं बंद कर दी गई हैं. मेडिकल स्टोर्स को खोलने की अनुमति दी गई है. वहीं दोपहर 3 से 5 तक दूध और सब्जी की सप्लाई करने की छूट रहेगी. वहीं इंरजेंसी में शहर के बाहर जाने वाले लोगों को कोतवाली से अनुमति लेनी होगी. वहीं कैलादेवी आने वाले श्रद्धालुओं पर कर्फ्यू का कोई असर नहीं पड़ेगा. इन श्रद्धालुओं के आने-जाने पर कोई रोक नहीं होगी. पुलिस खुद श्रद्धालुओं को सुरक्षा देगी.

यह भी पढ़े

ये हैं राजस्थान विधानसभा के मोस्ट इलेजिबल बैचलर, इनमें से कुछ तो अविवाहित रहने की ठान चुके हैं. 

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts