Saturday, October 1, 2022

दौसा ,पुलिस ने लकड़ी की फैक्ट्री में से बिहार के 13 बाल मजदूर करवाए रिहा

दौसा जिला पुलिस की मानव तस्करी रोधी इकाई की टीम ने सिकंदरा थाना क्षेत्र में ऑपरेशन करते हुए 13 बाल मजदूरों को छोड़ा है. एसपी राजकुमार गुप्ता के निर्देश पर की गई कार्रवाई में बिहार के दो उद्योगों में कार्यरत 13 बाल मजदूरों को छोड़ दिया गया है और उद्योग संचालकों के खिलाफ धारा 370 (5) के तहत मामला दर्ज किया गया है. अपर पुलिस अधीक्षक दिनेश शर्मा के निर्देश पर मानव तस्करी विरोधी इकाई के प्रभारी दीपक शर्मा की टीम ने सिकंदरा थाना क्षेत्र स्थित विनायक इंडस्ट्रीज और गोयल ट्रेडर्स पर छापा मारा. टीम के प्रभारी ने बताया कि जयपुर-आगरा राष्ट्रीय राजमार्ग पर सिकंदरा गांव के पास और झोप्रिन गांव में लकड़ी की दो प्लाइवुड फैक्ट्रियों में बच्चों से काम कराने की सूचना है. टीम ने मौके पर पहुंचकर छापेमारी की तो दोनों फैक्ट्रियों में काम कर रहे 13 बच्चों से उनकी मुलाकात हुई। जिनकी उम्र 14 साल से कम थी।

पुलिस सभी बच्चों को अपने कब्जे में लेकर थाने ले आई। कार्रवाई के दौरान फैक्ट्री मालिक मौके से फरार हो गया। पुलिस ने फैक्ट्री मालिकों के खिलाफ चाइल्ड लेबर एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है। बता दें कि जिले के उद्योगों और धार्मिक स्थलों पर चलने वाले होटलों और ढाबों में बड़ी संख्या में बाल मजदूरी की जा रही है. मेहंदीपुर बालाजी में ऐसे कई मामले पहले भी सामने आ चुके हैं, लेकिन पुलिस की सख्ती के अभाव में अंधाधुंध बाल मजदूरी की जा रही है.

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts