Sunday, September 25, 2022

राजस्थान में CM अशोक गहलोत के ‘घर’ में ही कांग्रेस से नाराजगी ? इस वजह से सामने आई जमीनी हकीकत

राजस्थान में चल रहे कांग्रेस डिजिटल सदस्यता अभियान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का अपना विधानसभा क्षेत्र ही पिछड़ गया है। राजस्थान में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए प्रदेश में डिजिटल सदस्यता अभियान चलाया जा रहा है। लेकिन 5 महीने के बाद जारी आकड़ों में सीएम गहलोत का विधानसभा क्षेत्र ही 14-वें स्थान पर आकर पिछड़ गया है। इससे भी हैरान करने वाली बात यह सामने आई कि सीएम के गृह जिले का विधानसभा क्षेत्र शेरगढ़ सबसे पीछे रह गया है। 

दरसअल राजस्थान में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। विधानसभा चुनाव को देखते हुए प्रदेश में एक नवम्बर से सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस ने डिजिटल सदस्यता अभियान शुरू किया था। राज्य के सभी 200 विधानसभा क्षेत्र में डिजिटल सदस्यता अभियान चलाया गया था। लेकिन 5 महीने बाद जब आंकड़े जारी हुए तो सदस्यता अभियान की पोल खुल गई। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का विधानसभा क्षेत्र ही सदस्यता अभियान की सूची में 14वें स्थान पर आ गया। यही नहीं, सीएम के गृह जिले के 8 विधानसभा क्षेत्र संगठन सदस्यता अभियान में बुरी तरह पीछे रहे हैं। जोधपुर जिले का शेरगढ़ विधानसभा क्षेत्र 200 विधानसभा में 174वें स्थान पर रहा है। साथ ही सबसे खराब स्थिति सीएम के गृह जिले के शेरगढ़, बिलाड़ा,भोपालगढ़ विधानसभा क्षेत्र की रही है। जहाँ कांग्रेस संगठन पार्टी में आम लोगो को जोड़ने में पिछड़ गई है।
 
प्रत्येक बूथ पर 100 सदस्यों का था टारगेट
अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी ने डिजिटल सदस्यता अभियान में राजस्थान के 200 विधानसभा क्षेत्र के प्रत्येक बूथ पर 100 सदस्यों को जोड़ने का टारगेट दिया था। लेकिन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृह जिले के 10 विधानसभा क्षेत्र में से सिर्फ 8 विधानसभा क्षेत्र ही इस टारगेट को पूरा तो कर पाए, लेकिन 200 सीटों की सूची में बुरी तरह पिछड़ गए।
 
सबसे खराब स्थिति शेरगढ़ विधानसभा क्षेत्र में
सीएम गहलोत के ही गृह ज़िले का शेरगढ़ विधानसभा क्षेत्र बुरी तरह से सदस्यता अभियान में पिछड़ गया है। विधायक मीना कवर के विधानसभा क्षेत्र शेरगढ़ में 290 बूथों पर मात्र 713 सदस्य ही पार्टी से जुड़ पाए। जिसके चलते 200 विधानसभा क्षेत्र की जारी सूची में शेरगढ़ 174 वे स्थान पर पिछड़ गया। वही भोपालगढ़ सीट पर भी 293 बूथों पर 2546 सदस्य बनाए गए। जिससे भोपालगढ़ 132 वें स्थान पर रहा। वहीं हैरान करने वाली बात यह भी रही कि सीएम के गृह जिले में ग्रामीण जिला अध्यक्ष का बिलाड़ा विधानसभा क्षेत्र भी सूची में 131वें स्थान पर रह गया।

यह भी पढ़े

राजस्थान भाजपा में कलह बरक़रार , जेपी नड्डा की मीटिंग में वसुंधरा के शामिल होने पर संशय, बाकी नेता रवाना

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts