Wednesday, September 28, 2022

हिस्ट्रीशीटर डॉक्टर 5वीं बार भ्रूण जांच करते गिरफ्तार

जोधपुर के एक एमबीबीएस डॉक्टर को भ्रूण परीक्षण करते हुए 5वीं बार पकड़ा गया है। शुक्रवार को पीसीपीएनडीटी टीम (Pre-Conception and Pre-Natal Diagnostic Techniques) ने जाल बिछाकर लंबे समय से गोरखधंधा चला रहे डॉक्टर को दबोच लिया। डॉक्टर भ्रूण परीक्षण के चक्कर में अपनी सरकारी नौकरी तक गंवा चुका है। उसके खिलाफ हिस्ट्रीशीट खुली हुई है, लेकिन उसने भ्रूण परीक्षण करना बंद नहीं किया। आरोपी को पकड़ने वाले अधिकारी ने बताया कि आरोपी एक बार तो चलती ट्रेन में भ्रूण परीक्षण करते हुए पकड़ा गया था।

50-90 हजार रुपए करता था जांच
पीसीपीएनडीटी की जोधपुर व जयपुर की टीम ने पाल रोड क्षेत्र में एक किराए के मकान में छापा मारकर आज डॉ. इम्तियाज को भ्रूण परीक्षण करते हुए पकड़ा। इस तरह के मामलों में पहले भी चार बार पकड़ा गया है। डॉक्टर के आज फिर पकड़े जाने के बावजूद चेहरे पर शिकन तक नजर नहीं आई। इम्तियाज अपंजीकृत पोर्टेबल सोनोग्राफी मशीन के जरिये 50 से 90 हजार रुपए में भ्रूण परीक्षण करता था। इसके लिए वह दलाल के जरिए सौदा तय करता था।
प्रेग्नेंट लड़की लेकर पहुंची थी टीम
डॉ इम्तियाज को रंगे हाथों पकड़ने के लिए पीसीपीएनडीटी की टीम जयपुर से अपने साथ 3 माह से ज्यादा गर्भवती एक युवती को लेकर पहुंची। उसने इम्तियाज के साथ भ्रूण परीक्षण का सौदा किया। सौदा पक्का होने के बाद इम्तियाज पोर्टेबल सोनोग्राफी मशीन से लिंग परीक्षण करने को तैयार हो गया। पीसीपीएनडीटी के इंस्पेक्टर जितेन्द्र गंगवानी ने बताया कि एक टीम तीन दिन से जोधपुर में थी। प्रेक्षा अस्पताल का ऑपरेशन सहायक भंवरलाल जांगिड़ डॉक्टर का दलाल था। पाल बालाजी के पास अशोक प्रजापत के मकान पर डॉ. मोहम्मद इम्तियाज व भंवरलाल जांगिड़ के साथ अशोक को गिरफ्तार किया गया।

डॉ. इम्तियाज ने पुरानी दिल्ली के भागीरथ मार्केट से ढाई से तीन लाख रुपए में पोर्टेबल सोनोग्राफी मशीन खरीदी थी। वह उसी से सोनोग्राफी किया करता था। प्रारंभिक पूछताछ में उसने स्वीकार किया कि वह पचास से अधिक महिलाओं के भ्रूण परीक्षण वह कर चुका है। इस मामले में पूरे नेटवर्क का पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि कुछ प्राइवेट अस्पतालों की भी इन परीक्षणों में भूमिका हो सकती है।

यह है सजा का प्रावधान
पहली बार कानून का उल्लंघन करने पर 3 साल की कैद व 50 हजार रुपए तक का जुर्माना हो सकता है। दूसरी बार पकड़े जाने पर 5 साल की कैद व 1 लाख रुपए तक का जुर्माना हो सकता है। लिंग की जांच करने का दोषी पाए जाने पर क्लीनिक का रजिस्ट्रेशन रद्द कर दिया जाएगा। वहीं धारा 313 के अनुसार महिला की सहमति के बिना गर्भपात करवाने वाले को आजीवन कारावास या जुर्माने की सजा दी जा सकती है।

धारा 314 के अनुसार गर्भपात के दौरान स्त्री की मौत हो जाने पर 10 साल का कारावास या जुर्माना या दोनों सजा हो सकती है।धारा 315 के अनुसार नवजात को जीवित पैदा होने से रोकने या जन्म के बाद

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts