Wednesday, September 28, 2022

Election: राजस्थान में राज्यसभा का रण, कल से दाखिल होंगे नामांकन

राज्यसभा चुनाव की मंगलवार को अधिसूचना जारी होने के साथ ही नामांकन दाखिले के काम शुरू हो जाएगा. प्रदेश की चार सीटों के लिए होने वाले चुनावों में वोट के आधार पर जीत की तस्वीर साफ नजर भले ही आती है लेकिन ऐसा है नहीं. असल में भाजपा को दूसरी सीट जीतने के लिए 11 मतों की आवश्यकता होगी. वहीं कांग्रेस को तीसरी सीट जीतने के लिए 15 वोटों की जरूरत होगी.

ऐसी स्थिति में राज्यसभा चुनाव की प्रक्रिया समझाने के बहाने ही सही विधायकों की बाड़े बंदी तय मानी जा रही है. ताकि दोनों ही दल अपने अपने वोटों को संभाल सकें. इधर उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने ऐलान किया है कि भाजपा दूसरी सीट को खाली नहीं जाने देगी.

क्या कहता है राजस्थान में राज्यसभा चुनाव का गणित राज्यसभा चुनाव के लिए प्रदेश की चार सीटों के लिए कल अधिसूचना जारी होने के साथ ही प्रदेश के दोनों ही प्रमुख दल सक्रिय हो जाएंगे. असल में राज्यसभा का चुनाव राजनैतिक पार्टियों के जीते हुए विधायकों की संख्या के आधार पर होता है. मसलन साल 2016 में राज्यसभा के चुनाव हुए थे.

तब भाजपा का प्रदेश में शासन था और भाजपा विधायकों की संख्या के आधार पर इन चारों सीटों में भाजपा के ही प्रत्याशियों की जीत हुई थी. कांग्रेस ने उस वक्त अपना घोषित उम्मीदवार तो नहीं उतारा था लेकिन निर्दलीय के तौर पर कमल मोरारका को समर्थन दिया था.

तब वोटों के गणित के आधार पर भाजपा के ओम प्रकाश माथुर, के.जे. अल्फोंस, रामकुमार वर्मा, हर्षवर्धन सिंह डूंगरपुर निर्वाचित हुए थे. लेकिन अब प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है और वोटों का गणित भी बदला है. राज्यसभा चुनाव अनुपातिक पद्धति के आधार पर होता है और इस बार चार सीटें रिक्त हैं.

इस लिहाज से हर एक प्रत्याशी को जीत के लिए प्रथम वरीयता के 41 वोट चाहिए. राजस्थान विधानसभा के पूर्व उपसचिव प्रहलाद दास पारीक ने बताया कि वर्तमान परिपेक्ष में बाड़े बंदी से इंकार नहीं किया जा सकता है और वोटों की गणित के आधार पर भाजपा अपना दूसरा प्रत्याशी मैदान में उतार सकती है.

बता दें कि राजस्थान में होने वाले राज्यसभा चुनावों की अधिसूचना कल यानी 24 मई को जारी की जाएगी. मंगलवार से नामांकर शुरू हो जाएंगे और 31 मई तक चलेंगे. इसके बाद ।3 जून तक नामांकन वापस लिए जा सकेंगे. 10 जून को सुबह नौ बजे से शाम 4 बजे तक मतदान होगा. वहीं 10 जून को शाम पांच बजे से मतगणना की जाएगी.

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts