Monday, September 26, 2022

राजस्थान में साइबर ठगो का खौफ, E-SIM इस्तेमाल करते हैं तो सावधान, एक मैसेज करते ही उड़ जाता है मोबाइल नेटवर्क और फिर पूरा अकाउंट खाली

पलक झपकते ही बैंक खाते खाली करने वाले साइबर ठगों का जाल बढ़ता ही जा रहा है। टेक्नोलॉजी में आए इस बदलाव के साथ साइबर ठग भी नए-नए तरीके से ठगी कर रहे हैं। टेलीकॉम कंपनी ने अपने उत्पादों को बेचने और लोगों की सुविधा के लिए तकनीक को संशोधित करके ई-सिम सेवा की शुरुआत की, लेकिन यह ई-सिम साइबर ठगों के लिए एक नया हथियार बन गया।

साल 2022 के 4 महीने में अब तक राजस्थान में ई-सिम फ्रॉड के 40 मामले सामने आ चुके हैं. साइबर ठगों ने ई-सिम के जरिए करोड़ों रुपये की ठगी की है। भास्कर ने विशेषज्ञ के माध्यम से सीखा कि ई-सिम के साथ धोखाधड़ी क्या है और इससे कैसे बचा जाए। आइए पहले दो मामलों से समझते हैं, धोखाधड़ी का एक नया तरीका।


ई-सिम क्या है?
कई टेलीकॉम सर्विस ऑपरेटर महंगे मोबाइल में ई-सिम सर्विस दे रहे हैं। यह केवल iPhone और One Plus मोबाइल के कुछ मॉडलों में उपलब्ध है। मोबाइल में जगह बचाने के लिए ई-सिम की सुविधा दी गई है। यह वास्तव में एक सिम नहीं बल्कि एक वर्चुअल सिम है, जो केवल मोबाइल के सॉफ्टवेयर द्वारा संचालित होता है। आप उसी सिम से एक नंबर भी दर्ज कर सकते हैं। इसे एम्बेडेड सिम कार्ड कहा जाता है। इस सिम को मोबाइल में टेलिकॉम कंपनी का स्कैनर और डिटेल भरने के बाद एक्टिवेट किया जा सकता है। सबसे बड़ी समस्या सिम एक्टिवेशन से शुरू होती है।


सिम री-एक्टिवेट कर साइबर ठगी
साइबर एक्सपर्ट आयुष भारद्वाज का कहना है कि साइबर ठग आसानी से ई-सिम यूजर्स को ठग लेते हैं। इसका कारण तकनीकी ज्ञान का अभाव है। दरअसल, महंगे मोबाइल में एक ही फिजिकल सिम का विकल्प होता है। उपयोगकर्ता की सुविधा के लिए दूसरे सिम को सक्रिय करने के लिए एक ई-सिम सेवा प्रदान की जाती है। वर्चुअल सिम को एयरटेल, जियो, बीएसएनएल, वोडाफोन जैसे नेटवर्क प्रदाताओं से सक्रिय किया जा सकता है। ई-सिम को दूर से ही चालू और बंद किया जा सकता है। शटडाउन के बाद, चालू करने के लिए एक क्यूआर कोड की आवश्यकता होती है, जो ऑपरेटर कंपनी द्वारा प्रदान किया जाता है। यह क्यूआर कोड ग्राहक की मेल आईडी पर भेजा जाता है। इस क्यूआर कोड को स्कैन करके वे धोखाधड़ी का खेल खेलने लगते हैं।

मैसेज में छिपा है धोखाधड़ी का राज
साइबर क्रिमिनल कंपनियों की तरह दिखने वाले नंबर वाले लोगों को सामान्य संदेश भेजते हैं। संदेश में कहा गया है कि आपका ई-सिम अक्षम होने वाला है। इसके लिए आपको केवाईसी (नो योर कस्टमर) को अपडेट करना होगा। ग्राहक से कहा जाता है कि आपको कंपनी के नंबर पर ही एक मैसेज भेजना होगा, जिससे आपका केवाईसी अपडेट हो जाएगा।

ऐसी बातें सुनकर लोग साइबर ठगों पर विश्वास कर लेते हैं। कुछ ही देर में साइबर ठग खुद एक मैसेज बनाकर यूजर को भेज देते हैं। ग्राहक को बताया जाता है कि आपको बस एक अपडेट लिखना है और कंपनी के नंबर पर एक संदेश भेजना है। अगर इसे ध्यान से न पढ़ा जाए तो कोई भी आसानी से इसका शिकार हो सकता है।
दरअसल, मैसेज में दिया गया मोबाइल नंबर यूजर का होता है, लेकिन ईमेल आईडी साइबर अपराधी का होता है। जिस नंबर पर साइबर ठगों को मैसेज भेजने के लिए कॉल किया जाता है वह भी नेटवर्क कंपनी का ही होता है। जैसे यूजर कंपनी नंबर पर टाइप करके अपडेट भेजता है। थोड़ी देर बाद ऑपरेटर कंपनी की ई-मेल आईडी पर क्यूआर कोड भेजता है। क्यूआर कोड स्कैन करते ही यूजर के मोबाइल से नेटवर्क गायब हो जाता है। साइबर ठग कुछ ही मिनटों में अपने मोबाइल में एक नया ई-सिम सक्रिय कर देते हैं। एक बार सिम सक्रिय हो जाने के बाद, बैंक खातों तक पहुंच भी समाप्त हो जाती है। एक पल में पूरा बैंक बैलेंस गायब हो जाता है।

बचाने के लिए इन युक्तियों का पालन करें

साइबर एक्सपर्ट आयुष भारद्वाज ने कहा कि ई-सिम फ्रॉड से बचने के लिए यूजर का सतर्क रहना बेहद जरूरी है। यदि कोई व्यक्ति किसी टेलीकॉम कंपनी के प्रतिनिधि के रूप में केवाईसी या अन्य तकनीकी समस्या को कॉल या टेक्स्ट करता है, तो ध्यान न दें। अगर आपको लगता है कि कोई समस्या है, तो स्टोर पर जाएं और कंपनी से संपर्क करें।

अगर आप कंपनी के नंबर पर मैसेज भेज रहे हैं तो उसे ध्यान से पढ़ें, बिना पढ़े फॉरवर्ड न करें। साइबर धोखाधड़ी से बचने के लिए सबसे बड़ी सावधानी ई-सिम का उपयोग करना है, लेकिन ई-सिम नेटवर्क पर बैंक खाता या वित्तीय सुविधा न लें। यदि कोई साइबर चोर गलती से ई-सिम धोखाधड़ी के लिए नेटवर्क का उपयोग करता है, तो वे आपके खाते तक नहीं पहुंच पाएंगे। यदि नेटवर्क मोबाइल से बाहर है तो जानकारी प्राप्त करने के लिए कंपनी से संपर्क करें।

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts