Saturday, October 1, 2022

Jaisalmer में भाजपा ने निकाली जन आक्रोश रैली, कांग्रेस सरकार के खिलाफ की नारेबाजी, कलेक्ट्रेट में फेंकी मटकियां

जैसलमेर में बुधवार को बीजेपी ने कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। हनुमान चौकड़ी पर भारी संख्या में भाजपा इकट्ठी हुई और सरकार को कोसा। जन आंदोलन रैली की शुरुआत हनुमान चौकड़ी से हुई। वे कलेक्टर कार्यालय पहुंचे और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। भाजपा ने बिजली, पानी और अन्य मुद्दों पर सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था। भाजपा ने अशोक गहलोत की प्रतिमा भी जलाई और कलेक्टर को एक आवेदन पत्र सौंपा। पुलिस और कार्यकर्ताओं के बीच हाथापाई भी हुई। रैली में पूर्व विधायक गीत सिंह भाटी, छोटू सिंह भाटी, जिलाध्यक्ष प्रताप सिंह समेत कई भाजपा नेता व पदाधिकारी शामिल हुए।

भाजपा कार्यकर्ताओं ने कलेक्टर कार्यालय पर बर्तन फेंके और जबरन दरवाजा खटखटाया और कलेक्टर कार्यालय में घुस गए। उन्होंने कलेक्ट्रेट परिसर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की प्रतिमा को आग के हवाले कर दिया। इस दौरान महिला कार्यकर्ताओं और महिला पुलिस के बीच हाथापाई भी हो गई। भाजपा के लोगों ने नारेबाजी की और कलेक्ट्रेट पर नारेबाजी की। भाजयुमो के राष्ट्रीय सदस्य और भाजपा युवा मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य अदन सिंह भाटी ने कहा कि जैसलमेर के लोग परेशान हैं। न तो जनप्रतिनिधि और न ही अधिकारी उनकी सुनते हैं। यहां तक ​​कि बिजली, पानी आदि जैसी प्राथमिक समस्याओं को भी इस सरकार से दूर नहीं किया जा रहा है। हमने सरकार को चेतावनी दी है कि लोगों के मुद्दों पर काम करने और उन्हें न्याय देने के लिए अभी भी समय है, अन्यथा हम हर बार सड़क पर होंगे।

भाजपा ने कांग्रेस सरकार पर हर मोर्चे पर विफल होने का आरोप लगाया
भाजपा नेता कंवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस सरकार हर मोर्चे पर विफल हो रही है। बिजली, पानी, दवा, सूखा राहत और शहरी प्रशासन जैसे सभी क्षेत्रों में सरकार विफल रही है। उन्होंने कहा कि महिलाओं पर हो रहे अत्याचार से जनता तंग आ चुकी है। आम आदमी महंगाई से परेशान है और केंद्र सरकार द्वारा पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कटौती के बावजूद राज्य सरकार खामोश है। इस अवसर पर जिला महासचिव सुशील व्यास, जिला मंत्री महेंद्र सिंह तंवर, जैसलमेर विधानसभा के प्रभारी महासचिव सवाई सिंह गोगली, मीडिया प्रभारी बाबू लाल शर्मा, नगर ओबीसी अध्यक्ष अजय सिंह रहीर सहित कई महिला पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद थे। भारी पुलिस काफिला भी मौजूद था।

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts