No menu items!
No menu items!
Saturday, October 1, 2022
No menu items!
No menu items!

हिन्दू बेटी की शादी में मामा बनकर आए मुस्लिम समाज के लोग, भात भरकर धूमधाम से करवाई शादी

मुस्लिमों ने भरा हिन्दू बेटी की शादी में मायरा: राजस्थान में हिन्दू-मुस्लिम सौहार्द्र (Hindu-Muslim harmony) की नई तस्वीर सामने आई है. यहां अलवर जिले में बिन मां-बाप की हिन्दू बेटी की शादी में मुस्लिम समाज ने मायरा (Mayra) भरकर नई मिसाल पेश की है. इस दौरान मुस्लिमों भाइयों का बेटी ने तिलक लगाकर स्वागत किया. शादी का माहौल देखकर वहां मौजूद लोगों की आंखें भर आई.

दंगों का दाग झेल रहे राजस्थान में प्यार और एकता की जड़ें काफी गहरी हैं। अलवर में ऐसा ही एक सुखद नजारा देखने को मिला। अपनी शादी में मामाओं का इंतजार कर रही एक हिंदू लड़की को अनोखे मायरे की सौगात मिली। यह मायरा भरा गया मुस्लिमों की ओर से।

रीति रिवाज से हुआ मामाओं का स्वागत
चंदा के घर पहुंचने पर द्वार पर नसरू व भात लेकर आए अन्य लोगों को तिलक लगाया गया। भात में 22 हजार 400 रुपए नकद व अन्य उपहार बेटी चंदा को दिए और आशीर्वाद दिया। यह देख चंदा भी भावुक हो गई। भात के समय पूरे परिवार के कपड़े देकर रस्म भी निभाई गई। संस्था के नसरू खां ने बताया कि उन्हें सोमवार को शादी वाले दिन ही चंदा के बारे में पता लगा था। चंदा ने कहा कि ये उसके लिए शादी का सबसे बड़ा तोहफा है।

पिता की मौत, मां छोड़कर गई
चंदा के पिता की 2007 में सांप के डसने से मौत हो गई थी। इसके कुछ समय बाद मां भी छोड़कर चली गई। इसके बाद से चंदा अपने दादा-दादी के पास रहती है। मां के छोड़ जाने के चलते ननिहाल से भी कोई नहीं आया।

कहते हैं हमारी कायनात इंसानियत के सहारे ही जिन्दा है और हमेशा जिन्दा रहेगी. नफरत से नहीं इंसानियत से जिन्दा रहता है समाज. हिन्दू मुस्लिम एकता और सौहार्द्र का एक और उदाहरण अलवर के रामगढ़ उपखंड इलाके के गांव मेवखेड़ा में देखने को मिला है.

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts