Saturday, October 1, 2022

Jaipur News : आज से शुभ विवाह शुरू , 9 जुलाई तक शादी ब्याह के वेडिंग इवेंट्स पर 20-22 हजार करोड़ खर्च करेगा राजस्थान

Jaipur News : आज से शुभ विवाह के मुहर्त शुरू , 9 जुलाई तक के शादी ब्याह के वेडिंग इवेंट्स पर 20-22 हजार करोड़ खर्च करेगा राजस्थान

सन्देश वातक डेस्क। कोरोना महामारी के चलते पिछले दो साल से शादी विवाह के आयोजनों पर कई तरह की पाबंदिया लगी होती थीं, लेकिन अब राजस्थान धूमधाम से शुभ विवाह के आयोजन कर पायेगा। अनुमान है की 15 अप्रैल से 9 जुलाई तक शादी समारोहों पर राजस्थानी 20-22 हजार करोड़ रुपये खर्च तक खर्च करेंगे . कोरोना के वक़्त शादी के सारे काम एक दिन में हो जाते थे या दो। वहीं अब मेहंदी से लेकर महिला संगीत और रिसेप्शन आदि तक में चार से पांच दिन लगेंगे ।

Shubh vivah

मैरिज गार्डन, होटल और लॉन आदि की बुकिंग के आधार पर कहा जा सकता है कि इन शादियों में राजस्थान में 2 लाख तक शादियां होंगी। शादी के इस सीजन में जयपुर शहर में 16000 तक होंगे जबकि जिले भर में 40 हजार शादियां होंगी।

दम्पति के गोद लेने की रस्म होगी। माना जाता है कि कोरोना से पहले 10 में से 3 शादियां शाही अंदाज में होती थीं, लेकिन अब 10 में से 7 शादियों में प्री वेडिंग शूट, सिनेमैटोग्राफी, मेहंदी, महिला संगीत, रिसेप्शन में सेल्फी जैसे कार्यक्रमों में बूथ के लिए बुकिंग होती है, ड्रोन फोटोग्राफी आदि का भी प्रबंध किया जाता है ।

राजस्थान टेंट डीलर्स हायर व्यापार समिति जयपुर के चेयरमैन रवि जिंदल का कहना है कि राजस्थान में अप्रैल, मई, जून और जुलाई में होने वाले इस सीजन में 47 शादियों में करीब 2 लाख शादियां होंगी. इससे 20-22 हजार करोड़ का कारोबार होने की उम्मीद है। जयपुर जिले में करीब 40 हजार शादियां होंगी, जिनका कारोबार करीब 6 हजार करोड़ का होगा। जयपुर में बड़े बजट की शादियां होती हैं। अखिल भारतीय उद्योग महासंघ राजस्थान के अध्यक्ष मोहनलाल अग्रवाल और महासचिव भवानी शंकर माली बताते हैं कि शहर के नगर निगम क्षेत्र के सभी 700 मैरिज गार्डन, जिनमें जयपुर जिले में 1300 और राज्य भर में 14000 विवाह स्थल शामिल हैं, होटल और रिसॉर्ट आदि के साथ फास्ट बुकिंग हैं। हुह। दुपहिया वाहन विशेषज्ञ कौशल अग्रवाल ने बताया कि शादियों, उपहारों के लिए वाहन खरीदने के लिए दुपहिया वाहनों की बिक्री में 20 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts