Saturday, October 1, 2022

21 साल की उम्र में जज बन कर जयपुर के मयंक प्रताप सिंह ने रचा इतिहास, मेहनत के दम पर पाई सफलता

राजस्थान की राजधानी जयपुर के निवासी मयंक ने राजस्थान ज्यूडिशियल सर्विस (आरजेएस) 2018 पास की है। अब वह देश में सबसे कम उम्र के जज बन गए हैं।हर किसी के जीवन में सफलता अहम होती है। बल्कि कहा जाता है इसे पाने के लिए ही लोग अपने जीवन में कड़ी मेहनत करते हैं। इतना ही नहीं बल्कि लोग अपनी तरफ से हर तरह का संभव प्रयास करते हैं जिससे वो अपने जीवन में सफलता को प्राप्त कर सके। कुछ इसी तरह मेहनत करके सफल हुए राजस्थान के मयंक प्रताप सिंह (Youngest judge mayank) की कहानी।

राजस्थान के मयंक प्रताप सिंह (Youngest judge mayank) भारत के सबसे युवा जज के पद पर हैं। उन्होंने मात्र 21 साल की उम्र में जज बनने का सौभाग्य प्राप्त किया। अपने मेहनत के दम पर उन्होंने यह मुकाम हासिल किया है। उन्होंने अपने जुनून को कभी कम नही होने दिया और अपने सपनों को साकार करने के लिए कड़ी मेहनत की। आइये जानते हैं उनके बारे में।

मयंक से बात चित के दौरान वह कहते हैं !

‘मैं हमेशा से समाज में जजों की इज्जत और महत्वता से प्रभावित रहा हूं। मैंने साल 2014 में राजस्थान विश्वविद्यालय के 5 वर्षीय एलएलबी कोर्स में दाखिला लिया जो इस साल के अंत में पूरा हुआ।’

वह आगे कहते हैं,

‘मैं अपनी सफलता से काफी खुश हूं और इसके लिए अपने परिवार, टीचर्स और शुभचिंतको को धन्यवाद देता हूं। उन्हीं के सहयोग से मैंने अपने पहले ही प्रयास में परीक्षा में सफलता पाई।’

मालूम हो साल 2018 तक न्यायिक सेवा की परीक्षा में बैठने के लिए न्यूनतम आयु 23 साल हुआ करती थी जिसे राजस्थान हाईकोर्ट ने इसी साल घटाकर 21 वर्ष कर दिया था।

इस बारे में मयंक कहते हैं कि यह एक अच्छा फैसला था। इससे खाली पदों को भरने में मदद मिली। इस फैसले के कारण ही उन्हें अपने करियर में अधिक से अधिक लोगों की मदद करने का मौका मिलेगा।

जज बनने का था सपना

मयंक (Mayank Pratap Singh) के मन में हमेशा से था कि न्यायलय में इतने लंबित मामले हैं इसके लिए जज की आवश्यकत है। इसलिए वो जज बनकर लोगों को न्याय देना चाहते है। इसी का नतीजा है कि उन्होंने अपने पहले प्रयास में ही परीक्षा पास कर ली। जिस परीक्षा को पास करने में कई साल लग जाते हैं उसे मयंक ने पास कर इतिहास रच दिया।

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts