Saturday, October 1, 2022

देश की पहली ट्रांसजेंडर नाज मिस ग्लोबल में लेंगी हिस्सा, जाने नाज की दर्दनाक कहानी, मां ने कहा था-‘मैंने तो लड़का पैदा किया था, छक्‍का नहीं’

ट्रांसवुमन नाज जोशी मिस ट्रांस ग्लोबल 2022 पेजेंट में भारत का प्रतिनिधित्व करने जा रही हैं। इस ब्यूटी कंटेस्ट में दुनिया भर की ट्रांसजेंडर महिलाएं भाग ले रही हैं। नाज के चर्चे हर जगह हो रहे हैं, लेकिन उनकी मां उनसे खफा हैं। मां कहती हैं-मैंने तो लड़का पैदा किया था, छक्का नहीं।

चॉकलेट और प्यार किसी भी चीज की कमी न थी
दिल्‍ली के एक अपर-मिडिल क्लास फैमिली में 31 दिसंबर, 1984 को एक बच्‍चे का जन्‍म हुआ। उसका नाम आइजिया जोशी रखा गया। पिता दिल्‍ली विकास प्राधिकरण (DDA) में अफसर थे। बच्चे को खिलाने, किताबों, चॉकलेट और प्यार किसी भी चीज की कमी न थी। तब भी वो बाकी लड़कों की तुलना में थोड़ा ज्यादा नाजुक था, लेकिन अभी बच्चा ही था, लेकिन काफी चंचल और खुशमिजाज बच्‍चा।

10 साल की उम्र से ही परिवार ने सुनाया ताना
10 साल का बच्चा, जिसे खुद भी पता नहीं था कि वो लड़का है या लड़की, उसके घरवालों भी उसके साथ बुरा बर्ताव करने लगे। परिवार को लगता कि बच्चे के इस व्यवहार की वजह से हर जगह उनकी बेइज्जती हो रही है। इसलिए उन्होंने बच्चे से पीछा छुड़ाने के लिए अपने बेटे को मामा के यहां भेज दिया।

ढाबे पर बर्तन धोता, रसोई में मामी का हाथ बंटाता
मामा का परिवार मुंबई में एक चॉल में रहता था। उनके परिवार में पहले से छह बच्चे थे और मामा एक सरकारी अस्पताल में वॉर्ड बॉय थे। मामा ने पहले दिन ही कहा, ‘तुझे स्‍कूल भेजने की हैसियत नहीं है हमारी। जाकर काम कर और अपने पैसे खुद कमा।’मामा ने आइजिया को पास के एक ढाबे में काम पर लगा दिया। 10 साल का लड़का दिन में स्कूल जाता, लौटकर ढाबे पर काम करता। फिर घर आकर रसोई में मामी का हाथ बंटाता और रात 11 बजे अपना होमवर्क करता।

तू घर की इज्जत मिट्टी में मिला देगा, तू कलंक है
दिल्‍ली में आइजिया के मम्मी-पापा का पांच कमरों का बड़ा सा घर था, और मुंबई में 12 बाय 13 की एक खोली। घर के सुख-आराम में पला बच्चा एक दिन रातों-रात घर से, रिश्‍तों से, प्यार से बेदखल कर दिया गया था। बच्चे को बस इतना समझ आ रहा था कि मां-बाप ने घर से निकाल दिया है। मामा-मामी उसे ताना देते, ‘तेरे मां-बाप ने अपना पाप हमारे सिर डाल दिया। तुझे कोई नहीं रखना चाहता। तू घर की इज्जत मिट्टी में मिला देगा। तू कलंक है।

वो दर्दनाक रात और अस्पताल की सुबह
एक दिन घर पर आइजिया के मामा-मामी नहीं थे। उनका 20 साल का बेटा और उसके कुछ दोस्त थे और सब शराब पी रहे थे। उन्होंने 11 साल के बच्चे को भी शराब पीने को दिया, लेकिन उसने मना किया तो उसे एक स्‍टील की गिलास में कोल्ड ड्रिंक पकड़ा दी और एक सांस में पी जाने को कहा। वो पीकर बच्चा सो गया और अगली दोपहर अस्पताल में उसकी आंख खुली। उसके शरीर पर बेतरह घावों के निशान थे और एनल एरिया में टांके लगे थे। दर्द कम करने के लिए पेन किलर्स दी गई थी, लेकिन दर्द था कि तब भी असहनीय हो रहा था। आंख खुली तो देखा सामने मामा खड़े थे। उन्होंने एक ही बात कही, ‘किसी से कुछ कहना मत। दो दिन बाद तुझे लेने आऊंगा लेकिन कोई लेने नहीं आया।

मामा के बेटे ने किया रेप
उस रात मामा के बेटे और उसके छह दोस्तों ने आइजिया का रेप किया था। रेप के दौरान बीच-बीच में दर्द से उसकी आंख खुलती, फिर बंद हो जाती। अस्पताल में ही किन्‍नर समाज के एक आदमी की उस पर नजर पड़ी और वो बच्‍चे को अपने साथ ले गया। कुछ दिन आइजिया ने सिग्नल पर भीख मांगी। बाद में उसे कहीं काम मिल गया। आइजिया दिन में स्कूल जाता, पढ़ाई करता और रात में बार में लड़की बनकर डांस करता।

मिस वर्ल्ड डायवर्सिटी का जीता खिताब
फैशन और ब्यूटी की दुनिया में नाज ने कदम रखा। मॉडलिंग की, रैंप पर चली। अफ्रीका, दुबई और मॉरीशस में जाकर तीन साल लगातार मिस वर्ल्ड डायवर्सिटी का खिताब जीता। पिताजी को नाज पर गर्व है लेकिन मां को अब भी गर्व नहीं है। अब नाज मिस ट्रांस ग्लोबल 2022 पेजेंट में हिस्सा लेने जा रही हैं, जहां दुनिया भर की अपने से उम्र में आधी ट्रांस सुंदरियों के साथ उनका मुकाबला होगा।

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts