Saturday, October 1, 2022

जहांगीरपुरी हिंसा के बाद एक्शन में दिल्ली पुलिस, अब तक 14 लोग गिरफ्तार, रैपिड एक्शन फोर्स भी तैनात

जहांगीरपुरी इलाके में हनुमान जन्मोत्सव शोभायात्रा के दोरान हिंसा मामले में आरोपितों की धरपकड़ के लिए छापेमारी तेज है। हिंसा के मामले में अभी तक 14 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पहले नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद पांच और आरोपितों को पुलिस ने दबोच लिया है। डीसीपी नॉर्थ-वेस्ट उषा रंगनानी ने जानकारी देते हुए बताया कि जहांगीरपुरी हिंसा के सिलसिले में 5 और आरोपी गिरफ्तार किया गया हैं। हिंसा में शामिल अभी तक कुल 14 लोग पुलिस की गिरफ्त में हैं। वहीं पूरे इलाके में सुरक्षा व्वस्था और कड़ी कर दी गई है। इलाके को छावनी में तब्दील करते हुए बड़ी संख्या में सुरक्षाबलों की तैनाती है। शनिवार को हिंसा में 8 पुलिसकर्मियों और 1 नागरिक सहित 9 लोग घायल हो गए थे। अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है। एक सब-इंस्पेक्टर को गोली भी लगी है, उनकी हालत स्थिर है। पुलिस का दावा है कि जल्द ही और गिरफ्तारी की जाएगी। जहांगीरपुरी हिंसा में शामिल लोगों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा। वहीं, जहांगीरपुरी हिंसा प्रभावित क्षेत्र में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए रैपिड एक्शन फोर्स तैनात कर दी गई है।

दरअसल, हनुमान जन्मोत्सव के मौके पर जहांगीरपुरी इलाके में शोभायात्रा पर किया गया हमला सुनियोजित था। यह शोभायात्रा अपराह्न बाद चार बजे ईई ब्लाक से निकाली गई थी। शोभायात्रा जब सी ब्लाक पहुंची तो विशेष समुदाय के लोगों की ओर से अचानक शोभायात्रा पर पत्थर फेंकना शुरू कर दिया जाता है। इस अप्रत्याशित हमले से शोभायात्रा में शामिल लोग खुद को संभालते कि दूसरे समुदाय के धार्मिक स्थल के निकट स्थित मकानों की छतों पर से भी ईंट, पत्थर के साथ ही कांच की बोतलों आदि से हमला और तेज कर दिया गया।

गाली देते हुए हाथों में तलवारें और अन्य हथियार लेकर हमला करने का भी प्रयास किया। हथियार हवा में लहराते हुए प्रदर्शन भी शुरू कर दिया। इसी दौरान कुछ हमलावरों ने वाहनों में तोड़फोड़ के साथ ही उन्हें आग के हवाले कर पूरे इलाके में दहशत का माहौल पैदा कर दिया। शोभायात्र में शामिल लोगों ने बताया कि जिस तरीके से हमले की शुरुआत हुई, उससे यह स्पष्ट था कि हमलावरों ने पहले से ही ईंट, पत्थर, बोतलें जमा कर रखीं थीं और शोभायात्र के पहुंचते ही हमला कर दिया।

संवेदनशीलता को देखते हुए तुरंत दिल्ली पुलिस के आसपास के थानों के पुलिसकर्मियों समेत अर्ध सैनिक बलों की तैनाती कर दी गई। मौके पर करीब 400 सुरक्षाकर्मी तैनात कर दिए गए। हालांकि, हिंसा के बाद इलाके में लोगों के बीच दहशत का माहौल बना हुआ है।

यह भी पढ़े

राजस्थान विधानसभा चुनाव 2023: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने साधे एक तीर से कई निशाने, जाने पूरी खबर

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts