Saturday, October 1, 2022

मस्जिद- मंदिर विवाद में PFI की एंट्री कहा- ‘BJP शासित राज्यों में निशाने पर हैं मुसलमान’ एकजुट होकर मस्जिदों पर कार्रवाई का विरोध करें

उत्तर प्रदेश में ज्ञानवापी और मथुरा की मस्जिदों के सर्वे के खिलाफ कोर्ट में चल रहे मामलों को लेकर पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) ने मोर्चा खोल दिया है। केरल के पुत्थनथानी में इस कट्टरपंथी इस्लामिक संगठन की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक 23-24 मई को हुई। इसमें देशभर के मुस्लिमों से एकजुट होकर मस्जिदों के खिलाफ चल रही कार्रवाई का विरोध करने की अपील की गई।

कट्‌टर इस्लामिक संगठन PFI हमेशा ही विवादों में रहता है। संगठन पर दिल्ली हिंसा में लोगों को भड़काने, फंडिंग करने, उत्तर प्रदेश और असम में CAA और NRC को लेकर हुए प्रदर्शन के दौरान हिंसा भड़काने के आरोप लग चुके हैं। उत्तर प्रदेश सरकार ने तो केंद्र से PFI पर प्रतिबंध लगाने की मांग भी की। संगठन की हर गतिविधि पर खुफिया एजेंसियां नजर रखती हैं, क्योंकि इसे प्रतिबंधित आतंकी संगठन SIMI का फ्रंट ऑर्गनाइजेशन माना जाता है।

बैठक में इन मुद्दों को लेकर जारी किया लेटर

PFI ने ज्ञानवापी में वजूखाने पर रोक का विरोध किया। संगठन ने कहा कोर्ट का फैसला निराशाजनक है।
कोर्ट में दायर याचिकाएं वर्शिप एक्ट 1991 के खिलाफ हैं और अदालतों को इन्हें मंजूर नहीं करना चाहिए था।
BJP शासित राज्यों में मुसलमान निशाना बनाए जा रहे हैं। UP, मध्य प्रदेश और असम में अत्याचार हो रहा है।
कर्नाटक के मंगलुरू में जामा मस्जिद पर किया जा रहा दावा कभी न खत्म होने वाली सांप्रदायिक दुश्मनी और अविश्वास का कारण बनेगा।

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts