Wednesday, September 28, 2022

पायलट समर्थक आचार्य प्रमोद कृष्णम ने अशोक गेहलोत पर साधा निशाना : कहा ‘इस्तीफे की धमकी’ हाईकमान को ब्लैकमेल करने जैसा मुख्यमंत्री जी

CM अशोक गहलोत पर सचिन पायलट समर्थक नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट किया- ‘इस्तीफा देने से पहले इस्तीफे की धमकी देना हाईकमान को ब्लैकमेल करने जैसा है, मुख्यमंत्रीजी।’ आचार्य प्रमोद कृष्णम के इस ट्वीट को कांग्रेस में खींचतान बढ़ने का संकेत माना जा रहा है। गहलोत ने दो पहले एक कार्यक्रम में बयान दिया था कि मेरा इस्तीफा सोनिया गांधी के पास पड़ा हुआ है।

यह पहला मौका नहीं है, जब पायलट समर्थक आचार्य प्रमेाद कृष्णम ने सीएम अशोक गहलोत को निशाने पर लिया है। इससे पहले भी प्रमोद कृष्णम सचिन पायलट को मुख्यमंत्री बनाने की मांग खुलकर उठाते रहे हैं। इस बार पायलट को सीएम बनाने की जगह गहलोत के बयान को लेकर उन्हें निशाने पर लिया है। पिछले गुरुवार को सचिन पायलट की सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद पीके फार्मूले पर युवा नेताओं को आगे लाने और राजस्थान में सीएम बदलने की चर्चाएं चलीं। उन चर्चाओं को गहलोत ने अफवाह बताते हुए खंडन किया।

अशोक गहलोत ने कहा था- मेरा इस्तीफा परमानेंट सोनिया गांधी के पास

शनिवार को राजस्व सेवा परिषद के सम्मेलन में अशोक गहलोत ने कहा था- ‘अफवाहें चलती रहती हैं। उनकी तरफ आपको ध्यान नहीं देना है। अफवाह चलती है कि सरकार बदल रही है, मुख्यमंत्री बदल जाएंगे। निश्चिंत रहना। मैं वह व्यक्ति हूं, जब 1998 में पहली बार मुख्यमंत्री बना, सोनिया गांधी ने मुझे तीन बार चीफ मिनिस्टर बनने का चांस दिया तो मैंने उस वक्त से उन्हें अधिकृत कर रखा है। मेरा इस्तीफा तो परमानेंट ही उनके (सोनिया गांधी के) पास में है। आप सोच सकते हैं, बार-बार यह बात आनी नहीं चाहिए कि मुख्यमंत्री बदल रहा है। क्या हो रहा है? जब मुख्यमंत्री बदलना होगा तो किसी को कानों कान भनक नहीं लगेगी। आप निश्चिंत रहें, आप अफवाहों में नहीं पड़े। दो-तीन दिन से अफवाह सुन रहा हूं। फलां यह हो गया, वो हो गया। अफवाह से बिना मतलब लोग कंफ्यूज हो जाते हैं। गवर्नेंस में फर्क पड़ जाता है।’

प्रमोद कृष्णम का पलटवार खींचतान बढ़ने का संकेत

पायलट को लेकर प्रमोद कृष्णम का यह पहला ट्वीट नहीं है। इससे पहले सीएम गहलोत ने मंगलवार को सोशल मीडिया को लेकर एक वीडियो मैसेज जारी किया था, जिसमें कहा था कि मैं चाहूंगा युवा पीढ़ी आगे आए। इस पर प्रमोद कृष्णम ने ट्वीट कर पूछा कि क्या आपका इशारा सचिन पायलट की तरफ है। आचार्य प्रमोद कृष्णम का बयान राजस्थान कांग्रेस में खींचतान बढ़ने का संकेत माना जा रहा है। प्रमोद कृष्णम के ट्वीट पर गहलोत समर्थकों ने भी करारा पलटवार किया है। प्रमोद कृष्णम के ट्वीट के जवाब में गहलोत समर्थकों ने उन्हें राजस्थान की समझ नहीं होने और सीएम नहीं बदलने को लेकर चैलेंज किया है। ट्वीट पर गहलोत और पायलट समर्थक एक दूसरे पर हमला बोल रहे हैं। प्रमोद कृष्णम के ट्वीट के बाद ट्वीटर पर भिड़े गहलोत-पायलट समर्थक आचार्य प्रमोद कृष्णम के ट्वीट के बाद गहलोत-पायलट समर्थकों में ट्विटर पर वार-पलटवार शुरू हो गया। गहलोत समर्थकों ने सीधे चुनौती दी कि सीएम वही रहेंगे तो पायलट समर्थकों ने जवाब दिया। बीकानेर सहकारी उपभोक्ता भंडार के डायरेक्टर कांग्रेस नेता नूतन कुमार जोशी ने लिखा- आचार्य जी,आप राजस्थान की जनता को नही जानते हो। राजस्थान की आम जनता के दिलों में अशोक गहलोत बसते हैं। अशोक गहलोत हैं तो सरकार बची हुई है अन्यथा मध्यप्रदेश मे क्या हुआ सबको पता है। चूरू से गहलोत समर्थक प्रभु सैनी ने लिखा- राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ही रहेंगे चाहे कितना भी जोर लगा लेना आचार्य जी।

गहलोत और पायलट समर्थक ट्विटर पर भिड़े।

पायलट समर्थक मोंटी साहू ने लिखा- ‘सचिन राजस्थान के युवाओं की पसंद है, इसलिए हम सचिन के साथ हैं। हर कार्यकर्ता को मान सम्मान देता है और सब की सुनता है।’ राजाराम चंदेला ने लिखा- ‘यह तो सचिन पायलट की ही कांग्रेस पार्टी के प्रति सम्मान था जो बिना पद के भी दो साल से काम कर रहे हैं। अशोक गहलोतजी से एक साल ही बिना पद के पार्टी का काम करवा के देख लो।’

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts