Saturday, October 1, 2022

मंदिर पर चले बुलडोजर पर डोटासरा का बयान: कहा- बीजेपी मंडल और बोर्ड अध्यक्ष ने तुड़वाया मंदिर, कांग्रेस फिर लगाएगी मूर्तियां

राजगढ़ में अतिक्रमण हटाने के दौरान मंदिर पर बुलडोजर चलाए जाने की घटना पर जमकर राजनीति हो रही है। देश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने जयपुर में सिविल लाइन आवास पर प्रेसवार्ता बुलाकर अपना बयान दिया डोटासरा ने कहा- राजगढ़ में नगरपालिका क्षेत्र से अतिक्रमण हटाया गया है। जिस पर बीजेपी नेता गलत बयानबाजी कर रहे हैं। उस मंदिर के अतिक्रमण हटाने का काम वसुंधरा राजे की पिछली बीजेपी सरकार के समय शुरू हुआ था। बीजेपी राजगढ़ मंडल अध्यक्ष सत्येन्द्र सैनी की ओर से मंदिर हटाने के लिए कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा गया था। जबकि नगरपालिका में भी बीजेपी का बोर्ड है।

डोटासरा ने कहा पिछली वसुंधरा राजे सरकार में सेकड़ों मंदिर तोड़े गए थे। बीजेपी का नगरपालिका बोर्ड इसके लिए दोषी है। कांग्रेस कभी धार्मिक आस्था के केंद्र से छेड़छाड़ नहीं करती। डोटासरा ने कहा बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष पूनिया अपने राजगढ़ मंडल अध्यक्ष के खिलाफ कार्यवाही करें। उन्होंने कहा अब कांग्रेस मंदिर में मूर्तियां पुनर्स्थापित करवाएगी। साथ ही उन्होने कहा नगर पालिका बोर्ड में ही अतिक्रमण हटाने का प्रस्ताव पारित किया गया। बोर्ड में 90 फीसदी बीजेपी पार्षद हैं।

बीजेपी बोर्ड में लिया गया फैसला

डोटासरा ने कहा राजगढ़ नगर पालिका में बीजेपी का बोर्ड है। वहां केवल एक कांग्रेस का सदस्य है। बाकी सभी बीजेपी के पार्षद हैं। बोर्ड के अध्यक्ष सतीश दुवारिया हैं। उनकी ओर से बोर्ड में फैसला लेकर मंदिर तोड़ने की कार्रवाई की गई है। उन्होंने कहा बीजेपी दिल्ली के जहांगीरपुरी में धार्मिक केन्द्रों पर भी बुलडोजर चला रही है। राजगढ़ बीजेपी मंडल अध्यक्ष सत्येन्द्र सैनी की ओर से 2018 में जिला कलेक्टर को यह चिट्ठी लिखकर दी गई है कि पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने दो बार यह कहा है कि इसे अतिक्रमण मानकर हटाया जाए। इसलिए कलेक्टर इस अतिक्रमण को तुरंत हटाए। अब बीजेपी का बोर्ड ने सर्व सम्मत फैसला लेकर मंदिर को हटाया है। इसलिए बीजेपी इस मामले में दोषी है। read more- अलवर में 300 साल पुराने मंदिर पर चला बुलडोजर, कांग्रेस पर भड़की BJP

मंडल और पालिका बोर्ड अध्यक्ष पर हो कार्यवाही

डोटासरा ने प्रेस से बातचीत के दौरान कहा बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया को चाहिए कि वह अपने मंडल अध्यक्ष सत्येन्द्र सैनी और नगरपालिका बोर्ड अध्यक्ष सतीश दुहारिया के खिलाफ तुरंत कार्यवाही करें। साथ ही उन्होंने कहा कि यह प्रमाणित है कि बीजेपी की पूर्व मुख्यमंत्री के निर्देश पर सतीश दुहारिया की ओर से कलेक्टर को पत्र लिखकर दिया गया। बीजेपी के नगर पालिका अध्यक्ष ने फैसला पारित करके मंदिर तोड़ने का काम किया है। तो फिर बीजेपी किस बात की जांच कर रही है। उसे जिम्मेदारी लेकर माफी मांगनी चाहिए और अपने जनप्रतिनिधियों,कार्यकर्ताओं के खिलाफ कार्यवाही करनी चाहिए।

बीजेपी की ओर से कांग्रेस शासन में मंदिर तोड़ने के आरोपों पर पलटवार करते हुए डोटासरा ने कहा – शासन क्या करेगा जब नगर पालिका खुद मंदिर हटा रही है। नगर पालिका ने जिला कलेक्टर से सहमति या परमिशन नहीं ली है। उसने अपना फैसला लिया और मंदिर को हटा दिया। डोटासरा ने कहा पिछली वसुंधरा सरकार के समय सैकड़ों मंदिर तोड़े गए थे। तब RSS ने उनकी क्लास लगाई थी। उसकी भी जिम्मेदारी आज तक उन्होंने नहीं ली। इसलिए बीजेपी की कथनी और करनी में फर्क है। चाहे दिल्ली में बीजेपी और आप के लोग आस्था के केन्द्रों पर बुलडोजर चला रहे हैं। यहां राजस्थान में भी बीजेपी के बोर्ड अध्यक्ष की ओर से बुलडोजर चलवाया गया है और फिर दुर्भावना फैलाकर धर्म के आधार पर लोगों को बांटने की कोशिश कर रही है। कांग्रेस वहां लोगों की आस्था के मुताबिक दोबारा विधि विधान से मूर्तियां लगवाएगी।

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts