Monday, September 26, 2022

कांग्रेस पार्टी राजस्थान विधानसभा चुनावों की तैयारियों में जुटी, कांग्रेस के नव संकल्प चिंतन शिविर का हुआ समापन

राजस्थान में आगामी विधानसभा चुनावों को देखते हुए सभी पार्टियां अभी तैयारियों में जुटती हुई दिखाई दी है। ऐसे में हाल ही संपन्न हुए कांग्रेस के नव संकल्प चिंतन शिविर में कांग्रेस ने आगामी विधानसभा चुनाव 2023 को लेकर रणनीति बनाई और इसमें कांग्रेस के करीब 400 दिग्गज नेता शामिल हुए है। कांग्रेस के नवसंकल्प शिविर के समापन सत्र में सोनिया गांधी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि हम भारत जोड़ो यात्रा शुरू करेंगे और इसकी गांधी जयंती से शुरूआत की जायेंगी। कन्याकुमारी से कश्मीर तक होगी भारत जोड़ो यात्रा होगी। हम सभी इस यात्रा में शामिल होंगे। वरिष्ठ लोग युवाओं को इस यात्रा में जोड़ेंगे। मैं भी भी इस यात्रा में शामिल होंउगी। सोनिया गांधी के इस संदेश से स्पष्ट है कि अब कांग्रेस लोगों पार्टी के साथ जोड़ने का कार्य बड़े स्तर पर करने वाली है।

नव संकल्प चिंतन शिविर के सत्र में सोनिया गांधी ने कहा कि मैं आशा करती हूं, कि हम चिंतन शिविर से इसी भावना के साथ विदा होंगे कि हम इन हालातों से उबरेंगे। सोनिया गांधी ने तीन बार अपनी बात दोहराई और कहा कि हम इन हालातों से उबरेंगे, यही है हमारा दृढ़ निश्चय और नव संकल्प होगा। इस दौरान सोनिया गाँधी ने राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत के विजन की तारीफ़ भी की है। उन्होंने कहा कि कल रात हम डिनर टेबल पर बैठे चर्चा कर रहे थे, तब अशोक गहलोत और युवा नेताओं के साथ चर्चा कर रहे थे तब कई सारे मुद्दों पर प्रभावी बातचीत हुई। कांग्रेस का चिंतन शिविर संपन्न हो गया है। नव संकल्प के साथ संपन्न हुआ कांग्रेस का शिविर और इससे राजस्थान में अब नई रणनीति दिखाई देने वाली है।

कांग्रेस के नवसंकल्प शिविर के तीसरे दिन और समापन सत्र में राहुल गांधी ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया है। राहुल गांधी ने कहा कि पिछले तीन दिनों में कांग्रेस को लेकर सार्थक चर्चा हुई। कांग्रेस पार्टी संवाद की बात करती है। पार्टी में बिना भेदभाव किए हुए बोलने का सभी को मौका दिया जाता है। राहुल गांधी ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि यहां ग्रुप डिस्कशन की भी सुविधा है। राहुल गांधी ने कहा कि इस वक्त हमारी लड़ाई विचारधारा की है। कांग्रेस बीजेपी और आरएसएस की विचारधारा की लड़ाई लड़ रही है। ये लड़ाई मेरी जिंदगी की लड़ाई है। क्षेत्रीय पार्टी इस लड़ाई को नहीं लड़ सकती है, लेकिन क्षेत्रियों दलों का सम्मान हमें करना होगा। कांग्रेस पार्टी एक परिवार है और मैं भी उसी परिवार का एक सदस्य हूं। 

वहीं, इस शिविर में प्रदेश के सीएम अशोक गहलोत शुरूआत में ही बीजेपी पर राजस्थान में धर्म के नाम पर लोगों को लड़वाने का आरोप लगाते हुए घेरा है। उनका कहना है कि बीजेपी के लोगों वोटबैंक के लिए लोगों का धर्म के नाम पर लड़ा रहें है। प्रदेश करौली, अलवर और जोधपुर इसके हाल ही उदाहरण भी उन्होने दिए है। उन्होने कहा कि राजस्थान की जनता इन सब बातों को जानती है और आगामी चुनावों में बीजेपी को इसका जवाब मिल जायेंगा।

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts