Sunday, September 25, 2022

लॉरेंस को नाश्ते में देते थे काजू बादाम, विदाई समारोह में पूरा गांव हुआ शामिल

जोधपुर के लोहावट में हिरण के बच्चे को परिवार ने अपने बच्चे जैसे 9 महीने तक पाला। जब उसे रेस्क्यू सेंटर में भेजना हुआ तो जागरण और भंडारा कराया। परिवार के लोग काफी मायूस थे, लेकिन ‘लॉरेंस’ को बेटी की तरह विदा किया। परिजनों ने उसकी देखभाल में कोई कसर नहीं छोड़ी। नाश्ते में लॉरेंस काजू-बादाम मिलता था।

असल में हिरण के इस बच्चे की मां को कुत्तों ने मार डाला था। उसके बाद इस मादा हिरण की परवरिश जैसलमेर के शिव सुभाग के परिवार बिलकुल अपने बच्चे की तरह की। फिर वह जब बड़ा और स्वस्थ हो गया तो धूमधाम से विदाई समारोह का आयोजन किया गया। इसमें गांव के लोग भी शामिल हुए। एक बेटी की तरह विदा कर जोधपुर के रेस्क्यू सेंटर में भेज दिया गया।

दरअसल, सनावडा गांव के पास करीब नौ माह पहले हिरण ने एक बच्चे को जन्म दिया था। जन्म देने के 15 दिन बाद मादा हिरण पर अवारा कुत्तों ने हमला कर मार दिया था। इस पर जैसलमेर के धोलिया गांव निवासी शिव सुभाग मांजू हिरण के बच्चे को बचाने के लिए अपने घर ले आए। उनकी पत्नी शिव सोनिया ने हिरण के बच्चे को अपने बच्चे की तरह देखभाल की।

लॉरेंस नाम रखा, खाने में देते थे काजू-बादाम
मांजू परिवार ने मादा हिरण को लॉरेंस नाम दिया। नाम पुकारते ही वह दौड़ा चला आता। नाश्ते से लेकर उसके खाने-पीने तक का ख्याल रखा जाता था। बॉटल में उसे दूध देते थे। खाने में बाजरी के दलिया के साथ काजू-बादाम खिलाते थे। लॉरेंस घर के बच्चों शिव सुच्ची, शिव सावित्री, शिव शिल्पा, शिव शेलेन्द्र के साथ खूब खेलता था।

विदाई समारोह में पूरा गांव शामिल हुआ
शिव सुभाग ने बताया कि बड़ा जैसे-जैसे बड़ा हुआ घर में छलांग मारने लगा। ऐसे में घर छोटा पड़ गया। वहीं आवारा कुत्तों के हमले का हमेशा डर था। इस पर लॉरेंस को रेस्क्यू सेंटर में भेजने का निर्णय लिया गया। इसके लिए परिवार ने गुरुवार को विदाई समारोह का आयोजन करने की सोची। सुबह पहले लॉरेंस का तिलक और माला पहनाई गई। घर में यज्ञ का आयोजन किया गया। इसके बाद रात में जागरण रखा। शुक्रवार को प्रसादी भी रखी गई। इसमें परिजन और गांव वाले भी मौजूद थे।

ये भी पढ़े- भागवत के दौरे ने बढ़ाई ममता की मुश्किलें, पुलिस को सतर्क रहने के निर्देश

चिंतन शिविर पर कटारिया ने उठाए सवाल, कहा- पिकनिक मनाने आए कांग्रेसी

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts