Wednesday, September 28, 2022

राजस्थान के नागौर जिले की शान : “जगत मामा पूर्णाराम गोदारा”, शिक्षा के लिए 4 करोड़ रुपये और 300 बीघा जमीन दान करने वाले महान शिक्षा संत के बारे में जाने यहाँ

राजस्थान के नागौर जिले से शिक्षा की लौ जगाने वाले “जगत मामा” नहीं रहे,खुद अनपढ़ रहकर भी जगाई थी शिक्षा की जोत

मोह माया से भरी इस जिंदगी में अगर आप किसी से फकीरी भरी जिंदगी जीने को कहेंगे तो शायद ही वह राजी होगा। लेकिन इस चकाचौंध भरी दुनिया में कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो सिर्फ दूसरों के लिए जीते हैं। जी हां, राजस्थान के नागौर जिले के जायल कस्बे में रहने वाले पूर्णाराम गोदारा की कहानी कुछ ऐसी ही है। अपना सबकुछ पूर्णाराम ने बच्चों की शिक्षा पर न्यौछावर कर दिया | अपने कामों की वजह से पूर्णाराम गोदारा को लोग ‘जगत मामा’ के नाम से भी जानते हैं।

4 करोड़ रुपये और 300 बीघा जमीन शिक्षा के लिए की दान

अपने जीवन काल में पूर्णाराम गोदारा ने शिक्षा में खूब दान किया। जानकारी के मुताबिक, अबतक उन्होंने स्कूली बच्चों को 4 करोड़ के नगद इनाम बांटे तो वहीं अपनी 300 बीघा पुश्तैनी जमीन बीघा भी स्कूली बच्चों के नाम कर दी। कहते हैं पूर्णाराम(Jagat mama) जब कभी घर से बाहर निकलते तो बिना बुलाए ही नागौर जिले के किसी भी स्कूल में चले जाते और वहां जाकर होनहार बच्चों को नकद पुरस्कार देते। अगर कहीं बच्चों की कोई प्रतियोगिता आयोजित होती तो वहां पहुंचकर अपनी तरफ से उनके लिए भोजन बनवाते।
Rajasthan Nagaur News: जगत मामा के नाम से मशहूर थे पूर्णाराम गोदारा

पूर्णाराम गोदारा (Purnaram Godara) ने जीवनभर अकेले रहने की प्रतिज्ञा की और शादी नहीं की। लेकिन उन्होंने हर बच्चे को अपना भांजा माना और उनकी मां को अपनी बहन। जहां भी जाते सभी बच्चों को भाणेज कहकर बुलाते तो बच्चे भी उन्हें मामा कहकर पुकारते। यही वजह रही कि धीरे-धीरे उन्हें लोग जगत मामा कहने लगे और वो पूरे इलाके में जगत मामा के नाम से मशहूर हो गए।

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts