Saturday, October 1, 2022

पायलट का बड़ा बयान, कहा- राजनीतिक पार्टियां धर्म और जाति के आधार पर लोगों को चाहती हैं बांटना

कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने करोली हिंसा को लेकर शुक्रवार को अपनी राय रखते हुए कहा कि अगर कोई व्यक्ति या समूह असामाजिक पृष्ठभूमि से है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। राजस्थान के करौली में नव संवत्सर (हिंदू नव वर्ष) पर एक बाइक रैली में पथराव के मद्देनजर 2 अप्रैल को आगजनी और तोड़फोड़ की घटनाएं हुईं थी। वहीं इस मामले को लेकर अब कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने कहा है कि अगर कोई व्यक्ति या समूह असामाजिक पृष्ठभूमि से है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।
सचिन पायलट ने कहा कि, “राजस्थान या देश को कोई भी हिस्सा हो जहां कोई कानून हाथ में लेता है उसकी जांच होनी चाहिए। देश आगे तब बढ़ेगा जब शांति रहेगी। मुझे उम्मीद है पुलिस काम करेगी। जो लोग भी शामिल हैं पुलिस उन पर कार्यवाही करेगी। जो भी दोषी है उसके खिलाफ कार्यवाही होनी चाहिए। हमें शांति और प्यार से रहना चाहिए। इस तरह की घटना जब होती तो दुख होता है। जो हिंसा करते हैं उस पर हमला करना चाहिए। साथ ही “महंगाई पर होना चाहिए प्रहार- पायलट सचिन पायलट ने आगे कहा कि, हमें महंगाई पर प्रहार करना चाहिए। चर्चा महंगाई पर होनी चाहिए। महंगाई को लेकर कांग्रेस नहीं देश ने हल्ला बोला है। हम लोगों को पता था कोरोना के बाद क्या महंगाई के बाद केंद्र सरकार ने कोई काम नहीं किया है। सरकार ने हर वो काम किया काले कानून लाएं, जीएसटी लाए, सबका निजीकरण कर रहे हैं। आर्थिक तौर पर केंद्र सरकार फेल है। केंद्र सरकार के किसी नेता ने नहीं कहा हम महंगाई पर काम करेंगे। कांग्रेस इस मुद्दों को लेकर आगे जाएगी। बता दें कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने करौली हिंसा को लेकर बीजेपी पर साधा था निशाना
वहीं इससे पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने करौली हिंसा (Karauli Violence) मामले कहा था कि किसी भी सूरत में दोषी नहीं बचेंगे. दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। इस दौरान सीएम गहलोत बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के राजस्थान दौरे को लेकर जमकर निशाना साधा था.. उन्होंने कहा था कि ये आग लगाने के लिए आते हैं। अभी नड्डा आए हैं बाद में अमित शाह (Amit Shah) आएंगे. ये पूरे देश में आग लगा रहे हैं. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को आगे आकर हिंसा की आलोचना करनी चाहिए. सीएम गहलोत ने आगे कहा था कि, देश में खतरनाक दौर चल रहा है। देश में हिंदू-मुस्लिम कर दिया गया है, हमें हिंदू होने का गर्व है. महात्मा गांधी भी हिंदू थे लेकिन हिंदू होने का मतलब है सभी धर्मों का सम्मान करना, लेकिन इन्होंने घिनौना काम किया है।

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts