Monday, September 26, 2022

देश में ऐसे कई गांव हैं जो अपने खास तरह रीति-रिवाज और परंपराओं के लिए जाने जाते हैं. लेकिन एक गांव ऐसा भी है जहां की परंपरा चौंकाती है. जैसलमेर जिले के एक गांव में हर मर्द दो शादी करते हैं.

इस गांव का नाम है रामदेयो की बस्ती (Ramdeyo-Ki-Basti). यहां हर पुरुष के पास दो पत्नियां हैं. यह बात भले ही चौंकाने वाली है पर सच है. राजस्थान (Rajasthan) के इस गांव में दूसरी शादी करने की वजह दशकों से चली आ रही है एक अलग तरह की परंपरा है. जिसका सीधा का कनेक्शन बच्चे के जन्म से हैं.

रामदेयो की बस्ती की बस्ती में हर मर्द क्यों करता है दो शादी, इस परंपरा को लेकर गांववालों का क्या कहना है? 5 पॉइंट में जानिए इन सवालों के जवाब…

  1. TOI की रिपोर्ट के मुताबिक, रामदेयो की बस्ती गांव में मान्यता है कि किसी भी मर्द की पहली पत्नी कभी गर्भधारण नहीं कर पाती. अगर वो गर्भधारण करने में सफल हो जाती है तो भी उसे बेटा नहीं, बल्कि बेटी होती है. ऐसा होने से गांव में बेटियों की संख्या बढ़ जाती है. इसलिए यहां के मर्द दो शादी करते हैं ताकि उनके घर में बेटे का जन्म हो. इसको लेकर यहां एक और मान्यता है.
  2. गांववालों का मानना है कि दूसरी पत्नी से जन्म लेने वाली संतान पुत्र ही होती है, इसलिए दो शादी करने की परंपरा आज भी कायम है. हालांकि वर्तमान की नई और पढ़ी-लिखी पीढ़ी इसे पूरी तरह सही नहीं मानती और न ही इसमें पूरी तरह से यकीन करती है. गांव में बदलाव की शुरुआत तो हो चुकी है, लेकिन पुराने और बुजुर्ग लोग आज भी अपनी उसी परंपरा पर कायम हैं.
  3. इस परंपरा को मानने वाले गांव वालों का कहना है कि उनके पास दोबारा शादी करने के अलावा कोई विकल्प नहीं था क्योंकि पहली पत्नी गर्भधारण करने में असमर्थ थी. वहीं, कुछ का कहना है, पहली पत्नी ने बेटी को जन्म को दिया था और बेटे पाने की चाह में दूसरी शादी की. ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर महिलाएं इस परंपरा पर आपत्ति क्यों नहीं जताती. इस पर गांववालों का कहना है, यहां पर मर्द दोनों ही बीवियों को बराबरी के अधिकार देते हैं और खुश रखते हैं, इसलिए महिलाओं को इस रिवाज से दिक्कत नहीं होती.
  4. गांववालों का कहना है, यहां कभी भी दो बीवियों के कारण परिवार में विवाद की स्थिति नहीं बनी परिवार में जन्म लेने वाले बच्चे की दोनों पत्नियां बराबरी से देखभाल करती हैं. दोनों ही पत्नियां खुशी-खुशी साथ में रहती हैं. इसलिए इस परंपरा पर कभी सवाल नहीं उठाए गए. हालांकि, अब नई पीढ़ी इस परंपरा से दूर बना रही है. इसलिए युवाओं में दो शादी करने के मामले न के बराबर हैं.

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts