Saturday, October 1, 2022

राजस्थान के गांवों में प्यास बुझाने के लिए भी पानी नहीं… मिट्टी का पानी पी रहे हैं बच्चे

राजस्थान में तेज गर्मी के साथ ही पीने के पानी का संकट बन रहा है। प्रदेश के कई जिलों के गांवों में लोग बूंद-बूद पानी को तरस रहे हैं। प्यास बुझाने के लिए लोग कच्ची बेरियों से जान पर खेलकर मटमैला पानी पीने को मजबूर हैं। यही हाल जालोर जिले में भी है। पेयजल किल्लत लोगों के लिए परेशानी का सबब बनी हुई है। ऐसा ही हाल है प्रदेश के जालोर का। यहां गुजरात और पाकिस्तान सीमा से लगते गावों में अकाल जैसे हालात है। हाल ये है कि जिले के 306 गांव और 985 ढाणियां बूंद-बूंद पानी को तरस रही हैं। ऐसे में पीने का पानी जुटाने के लिए लोगों को लाख जतन करने पड़ते हैं। मिट्‌टी की कच्ची बेरियों से मट-मैला पानी पड़ रहा है। बच्चे मिट्‌टी वाला पानी पीने को मजबूर है।

इन गांवों में भयंकर जल संकट
जालोर जिले के कुकड़िया, रडक़ा, धिगपुरा, भवातड़ा, जोरादर, भाटकी, कोलियों की गढ़ी, सांकरिया, खेजडियाली, सूथड़ी, सूराचंद, रणखार, टीपराड़ा में भयंकर पेयजल संकट हैं। भीषण गर्मी के दौर में लोग यहां बूंद-बूंद पानी के लिए भटकते देखे जा सकते हैं। प्यास बुझाने के लिए लोग कई किलोमीटर दूर से पानी लाने को मजबूर हैं।

34 गांव आज भी आदिम युग में जी रहे
चितलवाना क्षेत्र के करीब 30 किलोमीटर के इलाके में 34 गांव आज भी आदिम युग में जी रहे हैं। यहां आजादी के करीब 75 साल बाद भी सरकारें पानी का इंतजाम नहीं कर पाई हैं। जहां कच्ची बेरियां ना हों तो इलाके के हजारों लोग ऐसे ही प्यासे मर जाएंगे। आज भी इन्हें पानी के लिए कई किलोमीटर पैदल सफर करना पड़ रहा है।

गांवों में आजाद भारत की डरावनी तस्वीरें
चितलवाना के करीब 30 किलोमीटर के इलाके में बसे 34 गांवों में पेयजल को लेकर ऐसा हाल है जिसे हम आजाद भारत में डरावनी तस्वीरें कहें तो कोई बुराई नहीं है। भास्कर की टीम ने देखा यहां पर एक मटका पानी के लिए घंटों इंतजार करती महिलाओं को। यहां पर किसी भी प्रकार का कोई पानी का स्रोत नहीं होने के कारण मीठा पानी पीनें के लिए प्रत्येक दिन यहा कच्ची बेरी की खुदाई की जाती है।

बड़े-बड़े वादे लेकिन सच्चाई ये
इन गावों में पेयजल की सप्लाई को लेकर सरकार की ओर से बड़े-बड़े दावे और वादे किए जाते हैं। लेकिन यहां के लोगों का कहना है कि हकीकत जानने के लिए जनप्रतिनिधि कभी यहां नहीं पहुंचे। लोगों का कहना है कि पूर्व विधायक हीरालाल बिश्नोई के प्रयासों के बाद अब तक कोई जनप्रतिनिधि नेहड़ के लोगो का हाल जानने नही पहुंचा।

45 किलोमीटर की लाइन, 1 साल ही पानी मिला
जालोर जिले के इन 34 गांवों वाले नेहड़ क्षेत्र में आज भी सरकारी योजनाओं से पानी की कोई व्यवस्था नहीं है। कुकडिया, रडका, धिगपुरा, भवातड़ा, जोरादर, भाटकी, कोलियों की गढ़ी, सांकरिया, खेजडियाली, सूथड़ी, सूराचंद, रणखार, टीपराड़ा, धुड़ाजी की ढाणी समेत कई गांव हैं, जहां पर पेयजल के लिए जीएलआर तो बनाई गई, लेकिन यह पानी से नहीं जुड़ी हुई है।

900 गांवों को पानी की जरूरत
जिले के 900 गांवों को भीषण गर्मी के दौर में आज भी पानी की जरूरत है। जिले के 667 गांवों में नर्मदा के पानी की सप्लाई हो रही है। अफसरों की मानें तो नर्मदा नहर के डीआर और एफआर प्रोजेक्ट से इन जिलों में पानी की सप्लाई हो रही है। परियोजना का ईआर प्रोजक्ट अभी तक शुरु नहीं हुआ है।

नर्मदा प्रोजेक्ट का लाभ नहीं मिला
यहां के बाशिंदों को मीठा पानी उपलब्ध कराने के लिए नर्मदा प्रोजेक्ट तैयार किया गया। यदि इस प्रोजेक्ट के माध्यम से इन सभी गांवों तक पानी पहुंच जाता तो आज जालोर जिले में कहीं भी पानी की किल्लत नहीं रहती।

यह भी पढ़े

रीट के लेवल-1 में शिक्षा विभाग ने कैंडिडेट्स को अलॉट किए जिले

आपकी राय

क्या मायावती का यूपी चुनावों में हार के लिए मुस्लिम वोटों को जिम्मेदार ठहराना सही है?

View Results

Loading ... Loading ...

Get in Touch

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Articles

Latest Posts